हरदा। नाबालिग से दुष्कर्म करने वाले आरोपित अजय पिता मोहनलाल मेहरा उम्र 19 निवासी इंद्र कॉलोनी टिमरनी को 10 वर्ष की सजा सुनाई गई। शासन की ओर से आशाराम रोहित एवं जतिन दुबे द्वारा की गई। जानकारी देते हुए विनोद कुमार अहिरवार ने बताया कि फरियादिया ने थाना टिमरनी में उपस्थित होकर इस बात की रिपोर्ट लेख कराई कि 25 अगस्त 2016 को रात करीबन 9 बजे खाना बनाकर फुरसत होकर घर के सामने पाल पर बैठी थी। जंगल उर्फ आशीष मेरे पास आया और मेरे सीधे हाथ में नोचा तो मैं चल्लाई तो वह वहां से भाग गया। फिर लगभग आधे घंटे बाद आशीष अपने दोस्त अजय पता मोहनलाल के साथ वहां आया और आशीष ने अजय के घर का दरवाजा खोला। फिर आशीष ने जबरदस्ती मेरा हाथ पकड़कर मुझे खीचकर अजय के घर अंदर धकेल दिया और बोला तेरे साथ गलत काम करूंगा। अजय ने मेरा मुंह दबा दिया और अजय अपने साथ मुझे अंदर वाले कमरे में लेकर गया। जहां मेरे साथ गलत काम किया। मुझे धमकी दी किसी को बताना मत नहीं तो तुझे जान से मार देंगे। फरियादी की रिपोर्ट पर थाना टिमरनी ने आरोपित के विरूद्घ पास्को का अपराध पंजीबद्घ कर मामला न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया। मामले पर अपना निर्णय सुनाते हुए न्यायालय ने अजय पिता मोहनलाल मेहरा उम्र 19 निवासी इंद्रा कालोनी टिमरनी को 10 वर्ष साल का सश्रम कारावास व 500 रुपये के अर्थदंड, धारा 376 (2) (एन) भा.द.व में 10 साल का कठोर कारावास व 500 अर्थदंड 376 (घ) भा.द. व में 20 वर्ष का सश्रम कारावास व 500 अर्थदंड तथा 506 में 7 वर्ष का सश्रम कारावास व 500 रुपये अर्थदंड एवं धारा 34 पाक्सो में 7 वर्ष का कठोर कारावास तथा 1000 अर्थदंड से दंडित किया गया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local