सोहागपुर, नवदुनिया प्रतिनिधि। सिंगल यूज प्लास्टिक के उत्पादन, विक्रय, भंडारण एवं परिवहन करने वालों पर जुर्माने की कार्रवाई के लिए नगर परिषद के द्वारा 15 सदस्यीय निगरानी दल गठित किया गया है। भारत सरकार द्वारा बीते 1 जुलाई से सिंगल यूज प्लास्टिक पर पूर्ण प्रतिबंध के आदेश जारी किए गए हैं। नगर परिषद स्वच्छता निरीक्षक अमित परसाई एवं स्वच्छता समन्वयक नीरज मलैया ने बताया कि सीएमओ दीपक कुमार रानवे के निर्देश पर 15 कर्मचारियों का दल गठित किया गया है। सभी को यह जवाबदारी दी गई है कि बाजार क्षेत्र में केंद्र सरकार द्वारा प्लास्टिक की प्रतिबंधित सामग्रियों के विक्रय करने वाले दुकानदारों पर नजर रखें यदि कोई दुकानदार सिंगल यूज प्लास्टिक का विक्रय उत्पादन भंडारण एवं परिवहन करते हुए पाया जाता है तो उसके खिलाफ जुर्माने की कार्रवाई कर्मचारी करेंगे। उप स्वच्छता निरीक्षक से मिली जानकारी के मुताबिक नगर को तीन जोन में बांटा जाएगा। जिनमें मुख्य बाजार क्षेत्र, कोर्ट चौराहा क्षेत्र एवं स्टेशन क्षेत्र शामिल रहेंगे।

15 कर्मचारियों को भी अलग.अलग जोन की जिम्मेदारी दी जाएगी। जानकारी के मुताबिक सोमवार से नगर परिषद के कर्मचारियों को इस काम में लगाया जाएगा। आरंभिक दौर में कर्मचारी व्यापारियों एवं दुकानदारों को इस बात का परामर्श देंगे कि वह सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग ना करें एवं दूसरे लोगों को भी यह सलाह दें कि वह भी प्रतिबंधित सामग्री का इस्तेमाल ना करें। आमजन को जागरूक करने के लिए नगर परिषद के द्वारा नगर के कुछ क्षेत्रों में शुक्रवार को वाहन घुमाकर मुनादी भी कराई गई है। शेष क्षेत्रों में भी नगर परिषद के एक वाहन द्वारा सिंगल यूज प्लास्टिक पर प्रतिबंध की जानकारी आम जनों तक मुनादी के माध्यम से पहुंचाई जाएगी।

इसके उपरांत निगरानी दल में शामिल नगर परिषद के कर्मचारी इस बात पर नजर रखेंगे कि कहां पर सिंगल यूज प्लास्टिक का भंडारण परिवहन विक्रय अथवा उत्पादन किया जा रहा हैं नगर परिषद की ओर से स्वच्छता निरीक्षक अमित परसाई एवं स्वच्छता समन्वयक नीरज मलैया ने बताया कि यदि कोई दुकानदार इसके बाद भी सिंगल यू प्लास्टिक का उत्पादन विक्रय परिवहन अथवा भंडारण करते हुए पाया जाता है तो उस पर नगर परिषद के द्वारा जुर्माने की कार्रवाई की जाएगी। दुकानदारों का कहना है कि पर्यावरण संरक्षण की दृष्टि से यह कदम अत्यंत सराहनीय है। दुकानदारों के बीच ऐसी चर्चा भी है कि पूर्व में भी इस प्रकार के निर्णय लागू हुए हैं। लेकिन कुछ महीनों बाद सब कुछ पहले जैसा हो गया है। दुकानदारों का कहना है कि सरकार को पहले सिंगल यूज प्लास्टिक के उत्पादन पर रोक लगानी चाहिए। जब उत्पादन होगा ही नहीं तो बाकी की प्रक्रियाओं जैसे भंडारण परिवहन एवं विक्रय पर अपने आप लगाम लग जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close