नर्मदापुरम (नवदुनिया प्रतिनिधि)।

पचमढ़ी स्थित सेना शिक्षा कोर (आर्मी एजुकेशन सेंटर) में पदस्थ कैप्टन निर्मल शिवरंजन का शव शुक्रवार को कोच्ची ले जाया गया। जहां पर उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। आर्मी एजुकेशन सेंटर में दिवंगत कैप्टन को श्रद्धांजलि दी गई। जिसके बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया। कैप्टन शिवरंजन 15 अगस्त को बाढ़ की चपेट में आ गए थे। उनका शव गुरुवार को माखननगर की बछवाड़ा नदी से करीब दो किमी मिला है। सोहागपुर एसडीओपी मदन मोहन समर ने कैप्टन शिवंरजन के तलाशी अभियान के दौरान चलाए गए रेस्क्यू आपरेशन को अपने शब्दों में इंटरनेट मीडिया के माध्यम से बयां किया है।

कैप्टन शिवरंजन कुशल तैराक थे

एसडीओपी समर ने लिखा है कि जो जानकारी आर्मी के अधिकारियों से मिली है उसके मुताबिक कैप्टन निर्मल शिवरंजन अच्छे तैराक थे। समुद्रतल तक चले जाते थे। लेकिन बरसात की एक नदी ने उन्हें निगल लिया। 68 घंटे की मशक्कत के बाद उनकी निष्प्राण देह मिली है। यह हमारे लिए परीक्षा की घड़ी थी। तलाशी के दौरान मनमस्तिष्क कई प्रश्न खड़े कर रहा था।

समय की पाबंदी थी

एसडीओपी के मुताबिक सेना के अधिकारियों ने चर्चा के दौरान बताया कि कैप्टन समय के पाबंद थे। उन्हें 6 बजे तक आर्मी एजुकेशन सेंटर में उपस्थिति दर्ज करानी थी। किसी ने सलाह दे दी कि पिपरिया मार्ग में बाढ़ का पानी है बरेली से पिपरिया के सीधे रास्ते के बजाए बाड़ से नसीराबाद नर्मदा पार कर आगे बढ़े। रात 8.30 बजे रात के अंधेरे में अंबोर नदी पर विकराल जलराशि को समझ न सके। एसडीओपी के मुताबिक कैप्टन वही कर बैठे जो नहीं करना था।

लाइव लोकेशन बंद हो गई थी

पत्नी गोपीचंदा के साथ साझा की गई लाइव लोकेशन बंद हो गई थी, संपर्क भी कट गया था। अंतिम लोकेशन 8.30 बजे उफनती हुई अंबोर नदी के पुल पर थी। जिस समय पुल पर लोकेशन थी उस समय वहां पानी 15 फीट से ज्यादा था। सुबह परिजनों ने चिंता जताई। सब सक्रिय हुए, सर्चिंग शुरू की गई, लेकिन चारों ओर जल ही जल था।

टीम ने ढूंढी कार व शव

आपदा प्रबंधन की टीम कार व कैप्टन को खोज रही थी। नदी की गहराई में एक आंकड़े से कुछ टकराने की आवाज आई। कुछ देर की मशक्क्‌त के बाद कार को बाहर निकाल लिया गया। अब कैप्टन को खोजने का प्रयास तेज किया। करीब दो किमी दूर मछलियों को उछलत देख अंदाजा हुआ कि झाड़ियों के पास कुछ है। वहां जाकर देखा तो मानव शव था। जिसके बाद शव को वहां से हटाया गया।

इंटरनेट मीडिया पर वायरल हुई पोस्टर

एसडीओपी मदन मोहन समर द्वारा लिखी गई पोस्ट तेजी से वायरल हो रही है। एसडीओपी समर राष्ट्रीय स्तर के कवि भी हैं और अपने नवाचार के लिए जाने जाते हैं। एसडीओपी द्वारा लिखी गई पोस्ट पर कई यूजर ने अपनी प्रतिक्रिया भी दी है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close