नर्मदापुरम। नवदुनिया प्रतिनिधि

जिला पंचायत अध्यक्ष उपाध्यक्ष व सदस्यों का पदभार ग्रहण कार्यक्रम सोमवार को दोपहर में हुआ। अध्यक्ष राधा सुधीर पटेल के साथ जिले भर से आए कांग्रेसियों से पंचायत का सभागार खचाखच भर गया था। जिला पंचायत के सभागार में आंगतुकों के लिए कुर्सियां कम पढ़ गईं थी। अध्यक्ष के साथ बारह सदस्यों ने पदभार ग्रहण किया। उपाध्यक्ष वदकुंअर मनोहर बेंकर करीब एक घंटे देरी से आईं, इस कारण वे शपथ नहीं ले सकीं। अध्यक्ष व अन्य सदस्यों को मुख्य कार्यपालन अधिकारी मनोज सरियाम ने पदभार ग्रहण के साथ शपथ दिलाई। पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष कुशल पटेल ने नवनिर्वाचित अध्यक्ष को कुर्सी पर बिठाकर पदभार ग्रहण कराया। जिला पंचायत अध्यक्ष राधा सुधीर पटेल ने अपने प्रथम संक्षिप्त उदबोधन में सभी जिला पंचायत सदस्यों व कांग्रेसियों के प्रति आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि सभी के सहयोग के साथ जिला पंचायत के माध्यम से ग्रामीण विकास के कार्यों को प्राथमिकता से कराए जाएंगे।

मुझे आठ वर्ष का मौका मिला : पूर्व अध्यक्ष कुशल पटेल ने कहा कि मुझे जिला पंचायत में कार्य करने का 8 वर्ष का मौका मिला। सभी जिला पंचायत के सदस्यों के साथ ही अधिकारियों व जिला पंचायत के स्टाफ का भरपूर सहयोग मिला। अब नवनिर्वाचित अध्यक्ष व सदस्य भी अच्छे कार्य करेंगे, ऐसा मुझे विश्वास है। आज मेरे कार्यकाल का पूर्ण विराम है।

सभी के साथ मिलकर करेंगे कार्यः जिला पंचायत की अध्यक्ष राधा पटेल के पति पूर्व जिला पंचायत सदस्य सुधीर गौर ने कहा कि जिला पंचायत के अध्यक्ष पद का दायित्व मेरी पत्नी को सौंपा गया गया। हमारी कोशिश रहेगी कि सभी के साथ मिलकर जिला पंचायत के कार्यों को सामंजस्य के साथ पूरा किया जाएगा। पूर्व जिला पंचायत सदस्य बाबू चौधरी व अन्य सदस्यों ने भी अपने विचार व्यक्त किए।

बड़ी संख्या में आए जिले से कांग्रेसी

शपथ ग्रहण कार्यक्रम में भाजपा के गिने चुने ही लोग थे। वहीं कांग्रेसियों में पूर्व मंत्री विजय दुबे काकू भाई, पूर्व विधायक सविता दीवान शर्मा, पूर्व कांग्रेस जिला अध्यक्ष पुष्पराज पटेल, जिलाध्यक्ष सत्येंद्र फौजदार, चंद्र गोपाल मलैया, पूर्व जनपद अध्यक्ष, पूर्व जिला पंचायत के अनेक सदस्यों के अलावा बड़ी संख्या में कांगेसी मौजूद रहे। जिला पंचायत के शपथ ग्रहण के बाद मैरिज गार्डन में भी कार्यक्रम हुआ।

वर्जन-

जिला पंचायत के अध्यक्ष को शासन स्तर से कोई अधिकार नहीं है। मैं तो यही कहूंगा कि अध्यक्ष के अधिकार नगण्य हैं। अध्यक्ष को भी अधिकार दिए जाने चाहिए, जिससे वह जिले में विकास के कार्य कराने में आगे आ सके तथा कार्रवाई कर सके। हमने शासन से अनेक बार अधिकार के लिए मांग की है।

कुशल पटेल, पूर्व अध्यक्ष

00

जिला पंचायत अध्यक्ष रही हूं, लेकिन शासन स्तर से अध्यक्ष को अधिकार नहीं है। अध्यक्ष को एक निश्चित राशि आवंटित की जानी चाहिए। अध्यक्ष जिले में कुछ घोषणा कर सके, पंचायतों में कार्य करा सके इतने तो अधिकार होने ही चाहिए। अध्यक्ष का पद मिलने पर लोगों को अपेक्षाएं रहती हैं, लेकिन अधिकार नहीं हैं।

योजनगंधा जूदेव, पूर्व अध्यक्ष

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close