पेज 13की बाटम

गुरुनानक देव के 550वें प्रकाशोत्सव पर बच्चों ने पेश कि ए सांस्कृतिक कार्यक्रम

12एचओएस-

के प्शन-मंगलवारा घाट के पास गुरुनानकदेव की जयंती का आयोजन भक्ति भाव के साथ कि या गया।

होशंगाबाद। नवदुनिया प्रतिनिधि

सिख समुदाय के गुरुनानक देव के 550वें प्रकाश पर्व पर शहर के नर्मदा तट के मंगलवारा स्थित प्राचीन गुरुद्वारे में मंगलवार को विभिन्न धार्मिक अनुष्ठान कि ए गए। यहां प्रभातफे री, भजन कीर्तन के साथ अरदास के आयोजन कई दिन से हो रहे थे। मंगलवार को श्रद्धालुओं ने गुरुद्वारे में मत्था टेका। इसके बाद अरदास कर लंगर चखा।

समाज के सेवादारों ने रागी जत्था के सानिध्य में भजन के आनंद लिए। इसके अलावा यहां पर गुरुवाणी का पाठ और भजन हुए। दोपहर के समय गुरुनानक जी को याद करते हुए उनकी गुरुवाणी सुनाई गई। यहां गुरुद्धारे में रखी गई सोने की स्याही से लिखी गुरुवाणी के सामने कई लोगों ने मत्था टेका। इस अवसर पर विभिन्न समाज के लोगों ने भी गुरुनानक जयंती पर हिस्सा लिया। दिन भर श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। गुरुनानक जयंती का आयोजन भक्ति भाव के साथ से आयोजित हुआ। एक दूसरे को शुभकामनाएं देते हुए लंगर की प्रसाद ग्रहण की। यहां पर रात्रि में भी भजन के आयोजन होते रहे। गुरुद्वारे के पास ही अनेक श्रद्धालुओं के द्वारा भी सेवा की जा रही थी।

बच्चों ने प्रस्तुत कि ए सांस्कृतिक कार्यक्रम

इस पर्व के अवसर पर सिख समुदाय के नन्हें मुन्हें बच्चों ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी जिसमें भी धार्मिक कविताओं का पाठ,गुरुवाणी के संदेश, के अलावा गुरुनानक देव के जीवन पर ही प्रकाश डाला गया। जिसमें समाज के कई बच्चों ने सजे हुए तखत के पास पहुंच कर पहले 'जो बोले सो निहाल सत श्री अकाल' और 'वाह गुरु का खालसा वाहे गुरु की फतह फतह',के जय घोष कि ए उसके बाद अपनी प्रस्तुति दी।

अन्य स्थानों पर भी हुए आयोजन

गुरुनानक देव की जयंती के आयोजन शहर के अन्य अनेक स्थानों जिसमें संजय नगर के गुरुद्वारे, ग्वालटोली और रेलवे स्टेशन के पास के गुरुद्वारों में भी आयोजन कि ए गए। यहां पर भर लंगर का आयोजन हुआ। इसके अलावा पीपल चौक पर भी इटारसी से आए हुए सरदारों ने लंगर प्रसादी का वितरण कि या। जिसमें अनेक श्रद्धालुओं ने भोजन प्रसादी ग्रहण की। यहां पर सुबह से लेकर अपरान्ह तक प्रसादी का वितरण कि या गया।

Posted By: Nai Dunia News Network