नर्मदापुरम(होशंगााबाद) नवदुनिया प्रतिनिधि।

गुजरात के अहमदाबाद निवासी एक व्यापारी द्वारा शासकीय राशि के गबन करने का मामला सामने आया है। मप्र सिल्क फेडरेशन होशंगाबाद के प्रबंधक शरद श्रीवास्तव ने अहमदाबाद निवासी संजय पिता धीरजलाल हमालरी के विरुद्ध देहात थाने में केस दर्ज कराया है। प्रबंधक श्रीवास्तव ने बताया है कि सिल्क फेडरेशन मालाखेड़ी होशंगाबाद द्वारा विभिन्ना वस्त्रों के सिलाई एवं प्रिंटिंग का कार्य कराया जाता है। वर्ष 2016 में संजय हलारी निवासी अहमदाबाद से रेशम वस्त्रों की सिलाई प्रिंटिंग कर वापस फेडरेशन को लौटाने का अनुबंध किया गया था।

अनुबंध के बाद भी न तो कपड़ा दिया न राशि वापस कीः अनुबंध के अनुसार वस्त्र सिल्क फेडरेशन से दिया जाना था एवं वस्त्रों की सिलाई डिजाइन विभाग द्वारा दिए अनुसार की जाना थी। सिलाई निर्धारित दर अनुसार विभाग को अदा करनी थी। संजय हलारी को विभाग द्वारा 2477638 रुपये का 8174.48 मीटर कपड़ा उपलब्ध कराया गया। सिलाई के 8 लाख 7 हजार 50 रुपये संजय के बैंक एकाउंट नंबर के माध्यम से राशि का भी अग्रिम भुगतान किया गया था। संजय हलारी ने कपड़ा एवं सिलाई का पैसा मिलने के बाद से ही कपड़ा सिलाई में हीला हवाली करने लगा। इस दौरान रेशम विभाग के अधिकारियों द्वारा लगातार उससे संपर्क किया गया, परंतु संजय हलारी हमेशा आश्वासन देता रहा तथा कोरोना महामारी का हवाला देकर शीघ्र काम करने का कहता रहा।

विभाग की टीम ने अहमदाबाद में की छानबीन

कोरोना समाप्त होने के बाद 8 अक्टूबर 2020 को रेशम अधिकारी अहमदाबाद पहुंचे, लेकिन संजय के निवास पर कोई कपड़ा नहीं मिला। जिसके बाद रेशम विभाग के अधिकारी द्वारा पुलिस में शिकायत की बात की तो उसने 7904.10 कपड़ा वापस किया एवं शेष कपड़ा शीघ्र लौटाने का आश्वासन दिया। शेष 270.38 मीटर कपड़ा वापस नहीं किया है और न ही सिलाई के लिए ली गई अग्रिम राशि में से शेष 5 लाख 35 हजार 600 रुपये वापस किए हैं। इस प्रकार से संजय हलारी द्वारा शासकीय वस्त्र को इधर-उधर कर अन्यत्र कहीं विक्रय कर दिया एवं एडवांस की राशि हड़प ली है। संजय हलारी से 535600 रुपये एवं 270.38 मीटर कपड़ा जिसकी कीमत 101731 रुपये है के गबन पर पुलिस थाना देहात होशंगाबाद में प्राथमिकी की सूचना दर्ज करायी गई है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local