Hoshangabad News होशंगाबाद। जिला मुख्यालय से 10 किमी दूर बाबई के पास तवा नदी में इन दिनों जेसीबी और पोकलेन से रेत का जमकर उत्खनन हो रहा है। इसकी फोटो और वीडियो सोशल मीडिया में भी वायरल हो रहे हैं। यहां पर शासन की वैध खदान है, परंतु शासन की पिछले साल बनी नई खनिज नीति अनुसार मशीन से उत्खनन पर रोक है।

पिछले दिनों बाबई के रेत मजदूरों ने मशीन से उत्खनन रोकने की मांग को लेकर आंदोलन भी किया था। जिस पर जिला खनिज अधिकारी शशांक शुक्ला ने खनिज नीति में संशोधन तथा रेत खदान के अनुबंध की शर्तों का अवलोकन करने के बाद कार्रवाई करने का अाश्वासन दिया था।

खनिज अधिकारी अभी तक अनुबंध की शर्तों का अवलोकन ही नहीं कर पाए और यहां तवा नदी से मशीनों से रेत के उत्खनन का काम दिन-रात चल रहा है। गौरतलब है कि कोरोना संक्रमण के कारण करीब 8 माह से रेत का काम पूरी तरह बंद पड़ा था। इस बार बाढ़ और बारिश के कारण नदी में रेत की अच्छी आवक हुई है। अत्याधिक रेत आने के कारण ठेकेदार दिन-रात मशीनों से उत्खनन करा रहे हैं। बाजार में भी रेत की खूब मांग है और अच्छे दाम भी मिल रहे हैं। वर्तमान में एक ट्राली रेत 2500 तथा एक डंपर रेत के दाम 40,000 रुपये हैं।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस