Itarsi News:इटारसी (नवदुनिया प्रतिनिधि)। सीबीआई भोपाल की एक टीम ने मंगलवार दोपहर बीसएसएनएल में पदस्थ लेखापाल सुबोध मेहरा को 20 हजार रूपये की घूस लेते रंगे हाथों पकड़ लिया।

बीएसएनएल में लगी बुलेरो गाडि़यों के बकाया भुगतान के बदले में ट्रेवल्स संचालक आशीष पांडेय से 20 हजार रूपये मांगे थे। यह रिश्वत लेने के लिए सुबोध मेहरा ने कंपनी के कर्मचारी का केनरा बैंक का खाता नंबर दिया था। पांडेय ने इस मामले की शिकायत सीबीआई को कर दी थी, इसके बाद सीबीआई की टीम ने सोमवार को यहां डेरा डाल लिया था। लोनिवि के विश्राम गृह में टीम ठहरी हुई थी। तय योजना के तहत आशीष पांडेय ने कर्मचारी के खाते में 20 हजार रूपये ट्रांसर्फर किए। पैसे जमा होने के तत्काल बाद टीम ने बीएसएनएल टीडीएम कार्यालय जाकर लेखापाल सुबोध मेहरा को पकड़ लिया। मंगलवार दोपहर करीब 4 बजे सीबीआई की टीम दफ्तर में पहुंची।

बंद कराए मोबाइल

टीम ने अंदर जाते ही महिला कर्मचारियों को छोड़ काम कर रहे सारे अधिकारियों को यहां रूकवा लिया। कार्रवाई होने तक सभी अधिकारियों के मोबाइल बंद करा लिए गए। सीबीआई की 12 सदस्यीय टीम में एक महिला और 11 अफसर शामिल थे। लेखा शाखा में काम कर रहे मेहरा की घेराबंदी कर अफसरों ने उसे कस्टडी में ले लिया है। सूत्रों के अनुसार मेहरा के पास विदिशा के सिरोंज, जबलपुर और इटारसी में संपत्ति के निवेश की जानकारी भी सीबीआई ने खंगाली है। इस कार्रवाई को लेकर हड़कंप मच गया।

यह था मामला

शिकायतकर्ता पांडेय के अनुसार उसकी करीब 10 बुलेरो गाडि़यां बीएसएनएल में अनुबंध पर लगी थीं। 20 जनवरी 2019 को उसका काम बंद होने के बाद गाडि़यां हटा ली गईं। करीब 5.50 लाख रूपये के बकाया बिल को लेकर मेहरा पैसों की मांग कर रहा था। 27 मार्च 2021 को उसने विभागीय शिकायत भी की थी लेकिन, इस पर कोई कार्रवाई न होने से उसने 19 जुलाई को सीबीआई में शिकायत कर दी। पैसों के लिए मेहरा ने कर्मचारी का बैंक खाता दिया था लेकिन इसके बावजूद वह बच नहीं सका।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local