होशंगाबाद, आशीष दीक्षित, MP By-Election। कोरोना संक्रमण के चलते बसों का संचालन पिछले सात माह से लगभग ठप है। जिले में 151 बसों का संचालन किया जाता है, जिनमें से महज 47 बसें ही चल रही हैं। इन बसों को भी प्रदेश में होने वाले उपचुनाव के लिए अधिग्रहित किया जा रहा है। इसकी तैयारी यातायात व परिवहन अमले ने शुरू कर दी है।

पता चला है कि होशंगाबाद से 25 बसों का अधिग्रहण किया जाना है। अधिग्रहण की कार्रवाई से बस संचालक घबराए हुए हैं। बस संचालकों का कहना है कि कई माह बाद बसों का संचालन शुरू किया था, अब बसें अधिग्रहित की जा रही है। ऐसी स्थिति में रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। बस संचालकों ने प्रशासन व पुलिस अधिकारियों से बसें अधिग्रहित न करने की गुहार भी लगाई है। नाम ना छापने की शर्त पर बस संचालकों ने बताया कि रोज की होने की वाली कमाई बिल्कुल ना के बराबर है।

डीजल व रखरखाव का खर्चा भी बमुश्किल निकाल पा रहे हैं। कुछ बसें खड़े-खड़े कंडम हालत में पहुंच चुकी हैं। जो चल रही हैं, उनकी हालत भी ठीक नहीं है। क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी मनोज तेनगुरिया ने बताया कि कोरोना संक्रमण के चलते बसें से होने वाली आय में गिरावट आई है। पहले एक माह में तीस से चालीस लाख रुपए की आय प्राप्त हो जाती थी, वहीं यह राशि काफी कम हो गई है। बसों का संचालन सही तरीके से नहीं होने के कारण बस संचालक टैक्स जमा करने की स्थिति में भी नहीं हैं।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस