सेंटर फोटो 11 रहटगांव। कर्बला घाट में विसर्जन किए ताजिए। नवदुनिया

रहटगांव। नवदुनिया प्रतिनिधि

नगर में मुस्लिम धर्माबलम्बियों द्वारा मोहर्रम के त्याग और बलिदान के इस पर्व पर मंगलवार दोपहर बाद सब्जी बाजार मे ताजिए पहुंचे एवं रात्रि में हैरतअंगेज करतब दिखाकर हुसैन की शहादत को याद किया। प्रतिबर्षानुसार इस बर्ष भी अखाड़े के युवाओं द्वारा हैरतअंगेज करतब और अपनी हुनर को दिखाकर हसन हुसैन की याद को ताजा किया गया।वहीं बुधवार को कमेटी द्वारा खिचड़ा प्रसादी का इंतजाम रखा गया। जिसमें क्षेत्र एवं आसपास के श्रद्घालुओं ने खिचड़ा ग्रहण किया एवं कमेटी द्घारा ताजियादारो को माला पहनाकर प्रोत्साहित किया गया। इस मौके पर सरपंच ओमप्रकाश अग्रवाल द्वारा ताजियादारो को सम्मानित किया गया। दोपहर बाद जुलुस बस स्टैंड से होते हुए नगर का भ्रमण करते हुए स्थानीय अजनाल नदी पर कर्बला घाट पर पहुंचा। जहां पर ताजिए ठंडे किए गए। इस दौरान रास्ते भर अखाड़ों का प्रदर्शन किया गया। जुलुस में थाना प्रभारी सुलेखा निमोद पुरे दल बल के साथ मौजूद रही।एवं राजस्व विभाग से पटवारी दिनेश ईवने मौजूद रहे।

-------

सेंटर फोटो 12 धौलपुर। घरों में भराया पानी। नवदुनिया

बारिश का पानी लोगों के घरों में भराया

धौलपुरकलां। क्षेत्र में हो रही लगातार भारी बारिश से बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं। जिससे जिला मुख्यालय एवं विकासखंड मुख्यालय से ग्रामीण क्षेत्रों का संपर्क टूट चुका है। वही ग्रामीण लोगों का जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। ग्राम बारजा में आदिवासी मोहल्ले के घरों में पानी भरने के कारण वहां के लोगों का हालात बहुत खराब है। वहीं सामरधा में भी निचली बस्ती में हरिजन मोहल्ला में पानी भर जाने के कारण लोगों की खाने-पीने की सामग्री भी खराब हो चुकी है। धौलपुर में भी 15 से 20 घरों में पानी भरा चुका है। जिससे उनका जनजीवन बहुत दयनीय स्थिति में है।

---------

सेंटर फोटो 13 हंडिया। खतरे के निशान से तीन फीट नीचे नर्मदा। नवदुुनिया

खतरे के निशान से तीन फीट नीचे नर्मदा

हंडिया। क्षेत्र में झमाझम बारिश का दौर चलता रहा और वहीं नर्मदा नदी उफान पर आने से आसपास के क्षेत्र के लोग दर्शन करने के लिए जनसैलाब उमड़ने लगा। वहीं नर्मदा नदी के बड़ते हुए जलस्तर को देखते हुए हंडिया तहसीलदार अर्चना शर्मा और थाना प्रभारी एसपी सिंह बघेल द्वारा घाटों का निरीक्षण करते दिखाई दिए। बुधवार को नर्मदा नदी का जलस्तर 270.890 मीटर दर्ज किया गया। जबकि खतरे का निशान 274.590 मीटर है। वहीं देवास जिले के पुलिस अधीक्षक भी नजर बनाए हुए थे उन्होंने भी नेमावर निचली बस्ती में निरीक्षण किया।