Satpura Tiger Reserve : नर्मदापुरम, नवदुनिया प्रतिनिधि।सतपुड़ा टाइगर रिजर्व को वन्यप्राणियों के रहवास के लिहाज से सबसे उपयुक्त स्थान माना जाता हैं। यहां की जलवायु वन्यप्राणियों को रास आ रही है। शाकाहारी के साथ ही मांसाहारी वन्यप्राणी के कुनबे में इजाफा हो रहा है। सतपुड़ा टाइगर रिजर्व प्रबंधन का ध्यान अब बारहसिंगा के कुनबे को बढ़ाने पर है। इसी के तहत कान्हा राष्ट्रीय उद्यान से बाहरसिंगा को सतपुड़ा टाइगर रिजर्व में लाने का काम किया जा रहा है। अब तक करीब 120 से अधिक बारहसिंगा को कान्हा से सतपुड़ा टाइगर रिजर्व में लाया जा चुका है। शनिवार-रविवार देर 20 बारहसिंगा को कान्हा से विशेष वाहन के जरिए सतपुड़ा टाइगर रिजर्व लाया गया। प्रबंधन के आला अधिकारियों की निगरानी में इन बाहरसिंगा को घास के मैदान में छोड़ दिया गया। वाहन से नीचे छलांग मारने के बाद ही बारहसिंगा घने जंगल में ओझल हो गए।

वंश वृद्धि में बनेंगे सहायक

बाहरसिंगा का नया परिवार अपने कुबने को बढ़ाने में सहायक साबित होगा। प्रबंधन के आला अधिकारियों की माने तो बारहसिंगा को उचित रहवास स्थान मिल जाएगा। यहां के मौसम के अनुकूल ये वन्यप्राणी खुद को ढाल लेंगे। कुछ विस्थापित हो चुके गांवों को घास के मैदान के रूप में विकसित किया गया है। चीतल, बाहरसिंगा के साथ ही अन्य प्राणियों को आसानी से यहां पर भोजन प्रचुर मात्रा में उपलब्ध हो रहा है।

बाघों को मिलेगा शिकार

बाघ संरक्षण क दिशा में सतपुड़ा टाइगर रिजर्व कदम बढ़ा रहा है। बाघ को आसानी से भोजन उपलब्ध हो सके इसके लिए चीतल व बारहसिंगा का विस्थापन यहां पर किया जा रहा है। बाघ को उचित रहवास के साथ ही पसंदीदा शिकार मिल रहा है। हाल ही में एक बाघिन अपने दो नन्हें शावकों के साथ नजर आ आई थी। बाघों को वंश वृदि्ध में भी यह स्थान सबसे अनुकूल हो रहा है।

450 किमी का किया सफर तय

कान्हा से बीस बाहरसिंगा को लाया गया है। 450 किमी का सफर 12 घंटे में तय करने के बाद इन बारहसिंगा को घास के मैदान में लाया गया। इसके पहले भी बाहर सिंगा को लाया जा चुका है। पर्यटकों को भी ये बाहरसिंगा आसानी से नजर आ जाएंगे। प्राप्त जानकारी के अनुसार अब तक करीब दो हजार चीतल व 120 बाहरसिंगा लाए जा चुके हैं।

वर्जन

कान्हा से 20 बाहरसिंगा को सतपुड़ा टाइगर रिजर्व में छोड़ा गया है। वन्यप्राणियों के संरक्षण के लिए सभी उचित कदम उठाए जा रहे हैं।

- एल कृष्णमूर्ति, क्षेत्र संचालक, सतपुड़ा टाइगर रिजर्व नर्मदापुरम

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close