Vijayadashami 2020: होशंगाबाद। राम लीला मैदान पर सोमवार शाम करीब 5.30 बजे एक साथ रावण, कुंभकरण व मेघनाद का पुतला दहन किया गया। 139 साल में पहला मौका है जब दशहरा के असर पर तीनों पुतला एक साथ जलाए गए हों। परंपरा अनुसार तीन अलग-अलग दिन में पुतला दहन किया जाता था। कोरोना संक्रमण की रोकथाम के चलते इस बार कई नियम तय कि गए थे। तीनों पुतलों की ऊंचाई कम रखी गई ।

पुतला दहन देखने के लिए बड़ी संख्या में लोगों की भीड़ रामलीला मैदान पर उमड़ पड़ी थी। रामलीला का मंचन भी महज एक घंटे के अंदर पूरा किया। विधायक डॉ सीतासरण शर्मा ने पुतला दहन किया।

आयाेजन समिति के सदस्यों ने बताया कि मैदान के अंदर सिर्फ उन्हीं लोगों को प्रवेश दिया गया था जो रामलीला मंचन से जुड़े हुए थे। पूर्व में दशहरा मैदान में तीन दिन रामलीला का आयोजन किया जाता था। रामलीला को देखने के लिए दूर दराज से भी लोग होांगाबाद आए थे। प्रशासन व पुलिस ने सुरक्षा के इंतजाम किए थे।

सिटी कोतवाली, देहात थाना व पुलिस लाइन के बल को मैदान के आसपास तैनात किया गया था। यातायात व्यवस्था बाधित ना हो इसके लिए यातायात अमला तैनात रहा। इस बार दुर्गा प्रतिमाओं को रामलीला मैदान में नहीं लाया जा रहा है। दुर्गा समितियों को सीधे विसर्जन करने के लिए कहा जा रहा है। तहसीलदार शैलेंद्र बड़ोनिया ने बताया कि अलग-अलग घाटों पर प्रतिमाओं के विसर्जन के लिए व्यवस्था कर ली गई है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस