इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। चाइल्ड लाइन व महिला बाल विकास विभाग की टीम ने शुक्रवार को ऐसे प्रेमी जोड़े की शादी रुकवा दी जिसमें लड़की की उम्र तो 21 साल थी, लेकिन लड़के की उम्र विवाह के लिए निर्धारित 21 के बजाय 19 साल आठ माह थी। टीम को तेजपुर गड़बड़ी पुलिया के पास स्कीम नंबर 103 में उक्त शादी की सूचना मिली थी। महिला बाल विकास विभाग के संरक्षण अधिकारी भगवानदास साहू के मुताबिक लड़का इंदौर, जबकि लड़की खंडवा निवासी है। दोनों खंडवा से 15 मई को इंदौर आए थे और इसी दिन वकील के माध्यम से सहमति से शादी करने व साथ रहने का शपथ-पत्र बनवाया। फिर साईं मंदिर में एक-दूसरे को फूलमाला पहनाकर शादी की और फोटो भी खिंचवाए।

इस बीच लड़की के माता-पिता ने खंडवा में उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखवा दी थी। लड़के के मुताबिक दोनों खंडवा में पुलिस को बयान देने गए थे। शादी में लड़के के परिवार के सदस्य ही थे। शुक्रवार को विधिवत फेरों के साथ शादी होने थी। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंचे चाइल्ड लाइन, महिला बाल विकास विभाग, लॉडो अभियान कोर ग्रुप के सदस्य और राजेंद्र नगर थाने की पुलिस पहुंची तो मंडप सजा हुआ था।

लड़की के पिता थाने पहुंचे, कार्रवाई की मांग

जांच अधिकारी सब इंस्पेक्टर गोकुल अजनेरिया के मुताबिक चार माह पहले युवक-युवती खंडवा से भागकर इंदौर आए थे। खंडवा में लड़की के परिवार ने गुमशुदगी दर्ज करवाई थी। पुलिस ने पकड़ा तो दोनों ने शपथ-पत्र प्रस्तुत किया था। शुक्रवार को पुलिस दोनों को जब थाने लाई तो इसी दौरान खंडवा में रहने वाले लड़की के पिता थाने पहुंचे। उन्होंने एसपी इंदौर को दिए आवेदन की कॉपी दी। इसमें लड़के की विवाह योग्य उम्र न होने पर उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की गई। जांच अधिकारी के मुताबिक इस मामले में लड़के की उम्र कम है, इस सुप्रीम कोर्ट निर्देशानुसार पुलिस एफआईआर नहीं कर पाएगी।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना