MY Hospital Indore: इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहर का एमवाय अस्पताल अब अमानवीय लापरवाही का केंद्र बनता जा रहा है। पहले शव के स्ट्रेचर पर रखे-रखे कंकाल होने और फिर छह दिन तक बच्चे का शव फ्रीजर में रखने के बाद अब शुक्रवार को नौ दिन से पॉलीथिन में लपेटकर रखे गए कोरोना संक्रमित के शव का मामला सामने आया है। 6 सितंबर को 54 वर्षीय तानाजी को एमटीएच अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इलाज के दौरान 9 सितंबर की शाम उनकी मौत हो गई। इसके बाद शव को पॉलीथिन में लपेटकर एमवाय अस्पताल की मर्च्युरी भेज दिया गया। वहां इंट्री के बाद शव रख दिया गया, लेकिन जवाबदारों ने स्वजन को जानकारी ही नहीं दी।

स्वजन समझते रहे कि अस्पताल में इलाज चल रहा है। इधर, पहले से हो रही दो मामलों की जांच के दौरान जब रजिस्टर जांचा गया तो उसमें 9 सितंबर को एक शव रखे जाने की इंट्री तो मिली, लेकिन शव सौंपे जाने की जानकारी दर्ज नहीं थी। पड़ताल हुई तो शव वहीं रखा मिल गया। इसके बाद तुरंत शव की जानकारी जुटाई गई और पीथमपुर से स्वजन को बुलाकर शव उनके सुपुर्द किया गया।

स्वजन को समझाइश देकर किया रवाना

परिवार के लोगों ने इस लापरवाही पर नाराजगी जताई, लेकिन अस्पताल की ओर से समझाइश देकर रवाना कर दिया गया। पिछले दोनों मामलों की तरह ही इस मामले में भी अस्पताल प्रशासन का रवैया गोलमोल ही रहा।

इनका कहना है

नौ दिन पुराने शव मिलने के मामले में एमटीएच अस्पताल प्रबंधन से जानकारी मांगी गई थी। अस्पताल प्रबंधन ने बताया कि 9 सितंबर को ही मृतक के स्वजन को जानकारी दे दी गई थी, लेकिन वे कहीं बाहर होने की वजह से नहीं आए इसलिए शव को वहां रखा गया था।

ज्योति बिंदल, डीन, एमजीएम मेडिकल कॉलेज

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020