उदय प्रताप सिंह, इंदौर Madhya Pradesh Weather Update । इंदौर जिले इस मानसून सीजन में अब तक 43.9 इंच बारिश हुई है जो औसत (35.4) से 8.5 इंच अधिक है। इंदौर में अगले दो दिन में इस सीजन की बारिश का आखिरी दौर रहेगा। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक 24 सितंबर के बाद इंदौर में मानसून की बारिश की गतिविधि कम हो जाएगी। राजस्थान के आधे हिस्से में प्रतिचक्रवात प्रभाव अभी दिखाई दे रहा है। इसका प्रभाव उत्तर-पश्चिम भारत में होने के बाद मानसून की विदाई घोषित हो जाएगी।

मौसम विज्ञानियों के अनुसार बंगाल की खाड़ी में अभी निम्न दाब क्षेत्र बना हुआ है। यह झारखंड तक प्रवेश करेगा और उसके बाद कमजोर हो जाएगा। इसके असर से आगामी दिनों में पूर्वी मप्र में भारी बारिश होगी, जबकि इंदौर सहित पश्चिमी मप्र में गरज-चमक के साथ हल्की बारिश होगी। बंगाल की खाड़ी में बनने वाला यह आखिरी सिस्टम है। इसके बाद कोई मानसून सिस्टम नहीं बनेगा। इस बार पश्चिमी मप्र के लिए मानसून सामान्य रहा।

इस बार बारिश की स्थिति

जून - सामान्य से काफी अधिक

जुलाई- सामान्य से कम

अगस्त- सामान्य से थोड़ी अधिक

सितंबर- सामान्य

दिसंबर के आखिरी सप्ताह से शुरू होगी शीतलहर

भोपाल स्थित मौसम केंद्र के मौसम विज्ञानी वेदप्रकाश सिंह के मुताबिक इंदौर सहित प्रदेश में 15 नवंबर से 15 फरवरी तक ठंड का असर रहता है। इस बार अभी से पश्चिमी विक्षोभ बनना शुरू हो गया है। इस वजह से तापमान न ज्यादा बढ़ेगा और न कम होगा। ऐसे में दिसंबर में इस बार ज्यादा ठंड होगी, वहीं जनवरी में बारिश के साथ ठंड का असर रहेगा। इस दौरान ओलावृष्टि भी होगी। शीतलहर का दौर दिसंबर के आखिरी सप्ताह व जनवरी में रहेगा। जनवरी के पहले व तीसरे सप्ताह में शीतल दिन की स्थिति भी बन सकती है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020