इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। Acharya Vidyasagar शहर में पहली बार दिगंबर जैन समाज के 13 मंदिरों के पंचकल्याणक की तैयारियां चमेलीदेवी पार्क गोयल नगर में की जा रही हैं। इन्हें देखने आचार्य विद्यासागर बुधवार दोपहर अचानक पंचकल्याणक स्थल पर पहुंचे। वहां निरीक्षण के बाद विदुर नगर से आई सवा ग्यारह फीट की प्रथम तीर्थंकर भगवान आदिनाथ की पद्मासन पाषाण प्रतिमा में त्रुटि को ठीक कराया।

आचार्य ने कुछ देर प्रतिमा को निहारा, फिर साथ चल रहे संघ को कारीगर बुलाने के लिए कहा। संघ से चर्चा कर कुछ दिशा-निर्देश दिए। इसके बाद कारीगर को बुलाया गया और उसे प्रतिमा की त्रुटियां दूर करने के लिए बताया। इससे पहले उसे श्रीफल दिया। इसके बाद कानों के पास से कंधे तक आ रहे बालों को हटवाया। इस दौरान वे प्रतिमा के सामने ही संघ के साथ बैठे रहे। यह प्रतिमा मंगलवार रात ही पंचकल्याणक स्थल पर विदुरनगर से लाई गई थी।

पंचकल्याणक में शामिल होंगी 300 से अधिक मूर्तियां, 150 से अधिक आईं

ब्रह्मचारी सुनील भैया ने बताया कि पहली बार एक साथ 13 मंदिर का पंचकल्याण होने जा रहा है। पंचकल्याणक 26 जनवरी से 1 फरवरी तक होगा। इसमें 300 पाषाण और धातुओं में ढली मूर्तियां भगवान बनेंगी। पंचकल्याणक में अजमेर से 25 और सागर से 7 और पुणे से भी तीन मूर्तियां आई हैं। होशंगाबाद से भी ढाई फीट की अष्टधातु की एक मूर्ति लाई गई है। इसके अलावा पंचबलयति मंदिर स्कीम नंबर 78, वैभव नगर, कनाड़िया, शिखरजी ड्रीम, निर्वाण विहार, छावनी, खातीवाला टैंक आदि मंदिरों का पंचकल्याणक होगा।

पाषाण को भगवान बनाने की प्रक्रिया का नाम पंचकल्याणक

पाषाण की प्रतिमा को भगवान बनाने की पांच दिनी प्रक्रिया का नाम पंचकल्याणक है। जैन ग्रंथों के अनुसार सभी तीर्थंकरों के जीवन में ये पांच कल्याणक घटित होते हैं।

गर्भ कल्याणक : जब तीर्थंकर प्रभु की आत्मा माता के गर्भ में आती है।

जन्म कल्याणक : जब तीर्थंकर बालक का जन्म होता है।

दीक्षा कल्याणक: जब तीर्थंकर सब कुछ त्यागकर वन में जाकर मुनि दीक्षा ग्रहण करते हैं।

केवल ज्ञान कल्याणक: जब तीर्थंकर को केवल ज्ञान की प्राप्ति होती है।

मोक्ष कल्याणक: जब भगवान शरीर का त्यागकर अर्थात सभी कर्म नष्ट करके निर्वाण या मोक्ष को प्राप्त करते हैं।

प्रशासनिक अमला भी पहुंचा

आयोजन स्थल का जायजा लेने प्रशासनिक अमला भी पहुंचा। ब्रह्मचारी विनय भैया और सुनील भैया के निर्देशन में तैयारियां की जा रही हैं। इस दौरान अधिकारियों ने तैयारियों का जायजा लिया। इस मौके पर दयोदय चेरिटेबल ट्रस्ट के कमल अग्रवाल, संजय मैक्स, जैनेश जैन, प्रियांशु जैन आदि मौजूद थे।

Posted By: Hemant Upadhyay

fantasy cricket
fantasy cricket