इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। इंदौर की आबोहवा सुधारने के लिए अब यातायात पुलिस प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों पर कार्रवाई कर रही है। चेकिंग के दौरान पकड़े जाने पर प्रदूषण विभाग का प्रमाण पत्र भी दिखाना होगा। नहीं पाए जाने पर चालान कटेगा। यह नियम लोडिंग, कार व अन्य वाहनों से सभी प्रकार के वाहनों पर लागू होगा। अलग-अलग क्षेत्रों में इस तरह की जांच हर दिन की जाएगी। इस फोकस के परिणामस्वरुप इन वाहनों को डीजल वाहन से इलेक्ट्रिक वाहन और सीएनजी वाहन के रूप में परिवर्तित करवाने का लक्ष्य रखा गया है। नगर निगम की ओर से इलेक्ट्रिक वाहन लोडिंग गाड़ी के रूप में चलाने पर फ्री में चार्जिंग की सुविधा भी दी जाएगी।

तीन दिन पहले सालों के बाद सियागंज में लोडिंग वाहनों से निकलने वाले धुएं की जांच का काम किया गया। इस जांच में 20 वाहनों में से 15 वाहनों में खतरनाक प्रदूषण मिला। अब अन्य क्षेत्रों व चौराहों पर भी इस तरह के वाहनों की जांच का कार्य किया जाएगा। फरवरी 2022 में होने वाले स्वच्छता सर्वेक्षण को ध्यान में रखते हुए अब होने वाले स्वच्छता सर्वेक्षण को ध्यान में रखते हुए अब इंदौर की हवा में गुणवत्ता के स्तर में खतरनाक प्रदूषन को सुधारने का काम सबसे ज्यादा फोकस में आ गया है। इस काम को करने के लिए ट्राफिक के अलावा विभिन्न विभागों की टीम के द्वारा मैदान संभालने का काम भी शुरू हो गया है। इसके अंतर्गत सिटी बस कंपनी परिवहन विभाग और यातायात पुलिस की टीम मिलकर यह काम करेगी। यह टीम अपने साथ प्रदूषण के स्तर की जांच करने वाली मशीनों को साथ मे रखेगी।

तीन दिन पहले इस टीम के द्वारा सियागंज क्षेत्र में सामान को लाने ले जाने में मुख्य भूमिका निभाने वाले लोडिंग वाहन को चेक करने का काम किया गया। सुबह से लेकर शाम तक यह टीम इस जांच के कार्य को अंजाम देने में लगी रही। इस दौरान करीब 20 गाड़ियों की जांच की गई। इसमें से 15 से ज्यादा गाड़ियों में बहुत ही खतरनाक स्तर का धुआं निकलता हुआ पाया गया था। यह सभी गाड़ियां डीजल से चलने वाली थीं।


डीजल के साथ मिला पाया था घासलेट

इसमें वाहन चालकों के द्वारा डीजल के साथ घासलेट की मिलावट कर दी जाती है जिसके कारण गाड़ियों से मानव शरीर के लिए जहर का काम करने वाला धुआं निकलता है। कई सालों के लंबे अंतराल के बाद वाहनों के धुएं की जांच का काम शुरू किया गया है। इस जांच को पीसीयू कहा जाता है। वैसे तो इस जांच को अंजाम देना परिवहन विभाग और यातायात पुलिस का कार्य है। इस कार्य को इन दोनों विभागों के द्वारा नियमित रूप से किया जाएगा।

Posted By: gajendra.nagar

NaiDunia Local
NaiDunia Local