Adhik Maas 2020: इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पूजा-पाठ सहित समस्त शुभ कार्यों का सौ गुना फल देने वाला भगवान विष्णु का प्रिय 29 दिनी अधिकमास 18 सितंबर से शुरू हो गया। यह 16 अक्टूबर तक चलेगा। तीन साल में एक बार आने वाले अधिकमास में मंदिरों में भागवत पारायण, यज्ञ-हवन और अनुष्ठान होंगे। हालांकि कोरोना संक्रमण के चलते मंदिरों के दरवाजे श्रद्धालुओं के लिए बंद रहेंगे। इस बार धार्मिक अनुष्ठान का लाभ घर बैठे ऑनलाइन ही ले पाएंगे।

ज्योतिर्विद पं. विजय अड़ीचवाल ने बताया कि अधिकमास को पुरुषोत्तम मास भी कहते हैं। आश्विन मास के साथ अधिकमास का संयोग 19-19 साल के अंतराल में बनता है। इससे पहले 2001, 1982, 1963 में दो आश्विन मास आए थे। 2020 के बाद दो आश्विन मास 2039 में आएंगे। इस बार अधिकमास होने से चातुर्मास भी चार के बजाए पांच माह का हो गया है। शक्ति की उपासना के पर्व शारदीय नवरात्र की शुरुआत एक माह देरी से 17 अक्टूबर से होगी।

अधिकमास को भगवान विष्णु ने दिया अपना नाम

डॉ. गिरीशानंद महाराज, प्रभारी, शंकराचार्य मठ का कहना है कि पुराणों के अनुसार अधिकमास हर तीन साल में आता है। 12 महीनों के अंश से उत्पन्न अधिकमास का नाम मलमास पड़ा। इस कारण इसे पहले ज्यादा महत्व नहीं दिया जाता था। जब सभी महीनों ने इसका तिरस्कार किया तो वह दुखी हो गया और वह नारदजी के पास गया। नारदजी ने जब इस माह की व्यथा सुनी तो वे इस माह को भगवान विष्णु के पास ले गए। भगवान विष्णु ने कहा कि आज से मैं तुम्हें अपना नाम देता हूं, अब तुम्हारा नाम पुरुषोत्तम मास होगा और तुम सभी माहों में श्रेष्ठ कहलाओगे।

शहर में होंगे ये आयोजन

- निपानिया स्थित इस्कॉन मंदिर के प्रमुख स्वामी महामनदास ने बताया कि दुनियाभर के इस्कॉन मंदिर में भागवत कथा के आयोजन होंगे। नाम संकीर्तन और कथा के आयोजनों का ऑनलाइन प्रसारण भी होगा।

- लक्ष्मी-वेंकटेश देवस्थान छत्रीबाग के स्वामी विष्णुप्रपन्नााचार्य महाराज ने बताया कि मंदिर में प्रतिदिन सुबह 9 से 12 बजे तक हवन-पूजन होगा। भगवान विष्णु की तुलसी दल से आराधना 1008 नामों से होगी।

- बड़ा गणपति पीलियाखाल स्थित प्राचीन हंसदास मठ पर भागवत के मूल पाठ का पारायण एवं अखंड रामायण पाठ हंस पीठाधीश्वर महंत रामचरणदास महाराज के सान्निध्य में होगा।

- पद्मावती वेंकटेश देवस्थान ट्रस्ट विद्या पैलेस कॉलोनी के प्रचार प्रमुख नितिन तापड़िया का कहना है कि महीनेभर तुलसी दल से भगवान की अर्चना की जाएगी।

बनेंगे विशेष संयोग

आचार्य शिवप्रसाद तिवारी के मुताबिक, इस महीने कई खास संयोग बनेंगे जो कार्यों में सिद्धि प्रदान करेंगे। 19 व 27 सितंबर को द्विपुुष्कर और 2 अक्टूबर को अमृत सिद्धि योग रहेगा। इसके साथ ही 10 अक्टूबर को रवि पुष्य और 11 अक्टूबर को सोम पुष्य नक्षत्र रहेगा।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020