इंदौर। हीरानगर की प्राइम सिटी से किराना व्यापारी का अपहृत 6 वर्षीय बेटा मंगलवार सुबह घर पहुंच गया। उसने घटना और बदमाशों के बारे में महत्वपूर्ण जानकारियां दी हैं।

बच्चे ने कहा कि घटना में चार बदमाश शामिल थे। दो बदमाश उसे उठाकर ले गए थे। उसे दबोच कर बीच में बैठाया था। रोने लगा तो एक बदमाश ने मुंह दबा लिया। गुस्से में बच्चे ने उसका हाथ नोंच डाला। पुलिस संदेहियों के फोटो और वीडियो फुटेज दिखाकर मास्टर माइंड की शिनाख्त में जुटी है।

टीआई राजीवसिंह भदौरिया के अनुसार किराना व्यवसायी रोहित जैन के बेटे अक्षत जैन का रविवार दोपहर अपहरण हुआ था। सोमवार को उसे सागर के बड़ौदिया क्षेत्र से बरामद किया गया था। सुबह करीब 6 बजे टीम उसे इंदौर लेकर आ गई। अक्षत के पहुंचने के पहले परिजन और रिश्तेदार जमा हो गए थे।

पुलिस ने उससे पूछताछ की तो बताया कि बाइक सवार बदमाश उसे स्कीम-78 की तरफ लेकर गए थे। नकाब पहना बदमाश बहुत तेज गाड़ी चला रहा था। वह घबरा गया और रोने लगा। पीछे बैठे बदमाश ने उसका मुंह दबा दिया। गुस्से में अक्षत ने उसका हाथ नोंच दिया। बदमाश ने परेशान नहीं करने के लिए कहा।

बोला चुपचाप रहा तो पापा के पास छोड़ देंगे। कुछ समय बाद अक्षत को एक कमरे में बंद कर दिया। दोनों सुबह जल्दी उठे और अक्षत को लेकर रवाना हो गए। चौराहे पर खड़े होकर बस का इंतजार करने लगे। बस आने में देर थी तो अक्षत को एक ऑटो रिक्शा में सुला दिया। ठंड लगने पर एक बदमाश ने खुद का स्वेटर खोला और पहना दिया था।

फोन तोड़ा और साथी से कहा पुलिस को पता चल गया है

बदमाश कमरे से बाहर जाकर फोन पर बात करते थे। उन्होंने अक्षत से कहा- जब तुम्हारे पापा रुपए दे देंगे, तब तुम्हें छोड़ देंगे। सोमवार को एक बदमाश के पास फोन आया। फोन कट करते ही साथी से कहा- यहां से भागना पड़ेगा। पुलिस को पता चल गया है। उसने मौके पर ही फोन तोड़ दिया। रोहित के नंबर भी फोन में सेव थे।

उन्होंने अक्षत से कहा मैं तुम्हारे पापा के नंबर भूल गया हूं। अक्षत ने उसे नंबर बताए, तब बदमाश ने पर्ची पर नंबर लिखे। उसे लेकर रवाना हुए और कहा- पुलिस अंकल से बोल देना कि मुझे इंदौर जाना है। मेरे पापा को फोन लगा दो। अक्षत बड़ौदिया चौकी पर बैठे एसआई राजेश सिकरवार के पास गया और पर्ची दिखा दी।

अपहरणकर्ताओं ने फुटेज वायरल होते ही बदला हुलिया

अक्षत ने पुलिस को यह भी बताया एक बदमाश सैलून पर गया था। उसने दाढ़ी कटिंग बनवाई थी। पुलिस के अनुसार घटना के कुछ देर बाद ही बदमाशों के सीसीटीवी फुटेज वायरल हो गए थे। टीवी और वाट्सएप पर न्यूज चलने लगी थी। संभवत: बदमाशों को इसकी जानकारी लगते ही उन्होंने हुलिया बदलने की कोशिश की।

Posted By: