इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि Sanitizer Side Effects Indore।

केस 1- प्रियंक भाटी (परिवर्तित नाम) का मार्केटिंग का काम है और उन्हें सैनिटाइजर ज्यादा लगाना पड़ता है। इसके चलते हाथों की त्वचा इतनी प्रभावित हुई की हथेलियों में खुजली और पानी निकलने की समस्या होने लगी।

केस 2- विकास तारे (परिवर्तित नाम) की हथेलियां पहले रूखी हुई और फिर त्वचा निकलने लगी। इसकी वजह बेहतर क्वालिटी का सैनिटाइजर इस्तेमाल नहीं करना और जरूरत से ज्यादा उसका उपयोग था।

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए लोग लंबे वक्त से सैनिटाइजर का इस्तेमाल कर रहे हैं। इससे हाथों की त्वचा से संबंधित समस्या भी बढ़ी है। सैनिटाइजर और साबुन का ज्यादा इस्तेमाल हाथों की सेहत और सूरत बिगाड़ रहा है। कई लोगों के हाथ न केवल रूखे हो चुके हैं बल्कि ऊपरी त्वचा भी निकलने लगी है। कुछ मामले तो ऐसे भी सामने आए जिसमें हाथेलियों में से पानी भी निकलने लगा। कोरोनाकाल में हाथों से संबंधित परेशानी को लिए त्वचा रोग विशेषज्ञों के पास आने वाले मरीजों की संख्या में करीब 30 प्रतिशत तक का इजाफा हो गया है। इस समस्या से बड़े ही नहीं बल्कि बच्चे भी जूझ रहे हैं। डाक्टर्स का कहना है कि वक्त पर ध्यान दिया जाए तो समस्या को बढ़ने से रोका जा सकता है।

शत-प्रतिशत बढ़ी उनकी संख्या

एमवाय अस्पताल के त्वचा विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डा. राहुल नागर के अनुसार संक्रमण के इस दौर में इरिटेंट कान्टेक्ट डर्मेटाइटिस की समस्या बढ़ी है। जिन्हें पहले से हाथों की त्वचा संबंधित परेशानी रही उनकी संख्या तो शत-प्रतिशत बढ़ी है। सैनिटाइजर के जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल करने से न केवल त्वचा बल्कि हाथों के नाखुन भी खराब हो रहे हैं। जिनकी त्वचा ज्यादा ही संवेदनशील है उनमें समस्या बढ़ी है। त्वचा का तेल सूख जाने पर यह तमाम समस्याएं होती हैं।

30 प्रतिशत केस की वजह यही

त्वचा रोग विशेषज्ञ डा. भावेश स्वर्णकार के अनुसार हाथ से संबंधित समस्या को लेकर आने वाले कुल मरीजों में से करीब 30 प्रतिशत मामले सैनिटाइजर के दुष्प्रभाव वाले ही हैं। जिन्हें पहले से हाथ से संबंधित चर्मरोग या एक्जीमा था उन्हें गंभीर समस्या हो रही है। चूंकि बच्चों की त्वचा ज्यादा संवेदनशील होती है और वे सैनिटाइजर का इस्तेमाल भी ज्यादा करते हैं इसलिए वे भी समस्या से जूझ रहे हैं। अंगुलियों के बीच की त्वचा ज्यादा नाजुक होती है इसलिए वे पहले क्षतिग्रस्त होती है।

यह है लक्षण:

* त्वचा रूखी होना।

* हाथों पर चित्ते होना।

* त्वचा निकलना व खुजली होना।

* त्वचा में से पानी निकलना।

* हाथों में सूजन आना।

* घाव का पक जाना।

इस तरह रखें हाथों का ध्यान:

* माश्चराइजर वाले साबुन का इस्तेमाल करें।

* जरूरी होने पर ही सैनिटाइजर लगाएं।

* थोड़ी-थोड़ी देर में हाथों पर माश्चराइजर लगाते रहें।

* अच्छी गुणवत्ता वाला ही सैनिटाइजर लगाएं।

* क्रीम बेस्ड माश्चराइजर, पैट्रोलियम जैली या खोपरे का तेल लगाएं।

* जब हाथ धोने की व्यवस्था न हो तब ही सैनिटाइजर लगाएं।

* सोते वक्त हाथों पर क्रीम, तेल जरूर लगाएं।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local