इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि), Indore Corona Virusइंदौर में अस्थाई रूप में अपनी सेवाएं दे रहे आयुष चिकित्सक व स्टाफ ने एक बार फिर स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से राज्य सरकार को पत्र लिखा है कि उन्हें संविदा पर रखा जाएगा। इस बात को लेकर करीब 50 आयुष चिकत्सकों व स्टाफ ने सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जड़िया को ज्ञापन सौंपा। शासन द्वारा उनकी मांग को नहीं माने जाने पर इन्होंने गुरूवार से हड़ताल पर जाने की चेतावनी दी।

गौरतलब है इंदौर में रैपिड रिस्पांस टीम, सैंपलिंग टीम, फीवर क्लिनिक, कोविड केयर सेंटर व कंट्रोल रूम में करीब 300 आयुष चिकित्सक व स्टाफ काम कर रहा है। ये पिछले आठ माह सें इंदौर में अस्थाई स्टाफ के रूप में सेवाएं दे रहे है। पहले इनका तीन माह के लिए अनुबंध किया गया था। उसके फिर तीन माह के लिए अनुबंध बढ़ाया गया और उसके बाद फिर एक-एक माह के लिए अनुबंध बढ़ाया गया। ऐसे में अब इनकी मांग की है कि इन्हें परमानेंट संविदा पर नियुक्त किया जाए। ऐसा न करने की स्थिति में इन्होंने हड़ताल पर जाने की चेतावनी दी है।

अस्थाई कोविड स्टाफ के आयुष मेडिकल ऑफिसर चिकित्सक डॉ. चंद्रप्रकाश गोयल के मुताबिक स्वास्थ्य विभाग द्वारा इस बार भी 31 दिसंबर तक के लिए एक माह के लिए हमारा अनुबंध बढ़ाया गया है। हमने बुधवार को सीएमएचओ को पत्र लिखकर कहा है राज्य शासन द्वारा हमारी मांग नहीं मानी जा रही है। इस वजह से हम गुरुवार से हड़ताल पर रहेंगे। सीएचएचओ डॉ. प्रवीण जड़िया के मुताबिक बुधवार को उनकी आयुष चिकित्सकों व स्टाफ के प्रतिनिधियों से बात हुई। उनकी मांग को लेकर पत्र भी लिया गया। वे फिलहाल हड़ताल पर नहीं जा रहे है।

Posted By: sameer.deshpande@naidunia.com

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस