DAVV Indore: इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। देवी अहिल्या विश्वविद्यालय (डीएवीवी) के दायरे में आने वाले ला कालेजों की मान्यता का मामला सुलझ गया है। मगर कालेज प्रबंधन को बार काउंसिल आफ इंडिया (बीसीआइ) में मान्यता के लिए आवेदन करने से जुड़े दस्तावेज विश्वविद्यालय में प्रस्तुत करना है, जिसमें मान्यता शुल्क और ला आनर्स कोर्स से जुड़े कागज शामिल है। यह प्रक्रिया 30 सितंबर से पहले करना है। उसके बाद विश्वविद्यालय रिजल्ट जारी करेगा। अधिकारियों के मुताबिक सभी कालेजों की मान्यता को लेकर स्थिति स्पष्ट हो चुकी है।

दरअसल विश्वविद्यालय से एलएलबी, बीएएलएलबी, बीकामएलएलबी, बीबीएएलएलबी आनर्स पाठ्यक्रम संचालित होते है। उसके आधार पर कालेजों को संबद्धता जारी होती है। मगर बीसीआइ से कालेज सामान्य पाठ्यक्रम की मान्यता हासिल करते है। सत्र 2021-22 में भी कई कालेजों ने सामान्य मान्यता ले रखी थी। शिकायत के बाद विश्वविद्यालय ने कालेजों को आनर्स की मान्यता लाने पर जोर दिया। 12 में से चार कालेजों ने तुरंत प्रक्रिया पूरी कर रखी थी। जबकि आठ कालेजों को सात महीने मान्यता लाने में बीत गए है।

इसके चलते सभी ला कोर्स के पहले सेमेस्टर की परीक्षाएं भी काफी लेट हुई है। इनका रिजल्ट आना बाकी है। अभी तक छह कालेजों ने मान्यता से जुड़े दस्तावेज प्रस्तुत कर दिए है। दो कालेजों ने प्रक्रिया पूरी नहीं की है। अब प्रबंधन को मान्यता शुल्क की रसीद जमा करवाना है, क्योंकि बीसीआइ से अभी मान्यता जारी नहीं हुई है।

परीक्षा नियंत्रक डा. अशेष तिवारी का कहना है कि कालेजों को मान्यता से जुड़ा कोई भी दस्तावेज व रसीद विश्वविद्यालय में जमा करने को कहा गया है। ताकि मूल्यांकन केंद्र को सभी पाठ्यक्रम के रिजल्ट निकलने में आसानी होगी। वे बताते है कि वैसे जिन कालेज की तरफ से प्रक्रिया पूरी नहीं होती है तो उस संस्थान का रिजल्ट रोका जाएगा। हालांकि अक्टूबर पहले सप्ताह तक रिजल्ट घोषित करने की तैयारी है।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close