इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि, Bengali Flyover Indore। डेढ़ साल से अटके पड़े बंगाली फ्लाईओवर के मध्य भाग की ड्राइंग-डिजाइन इस हफ्ते भोपाल स्थित पीडब्ल्यूडी मुख्यालय से मंजूर होने की उम्मीद है। स्थानीय अफसरों ने तैयारी कर ली है कि जैसे ही अनुमति आए, वैसे ही मध्य भाग में पिलर निर्माण का काम शुरू कर दिया जाए। मध्य भाग में पहले दो पिलर बनाने के लिए खोदाई होगी। पिलर बनने के बाद ऊपरी हिस्से की स्लैब बनाई जाएगी और आखिरी में रोटरी निर्माण किया जाएगा। मध्य भाग काम शुरू होने में कम से कम पांच से छह महीने का समय लगेगा।

फ्लाईओवर के मध्य भाग का काम पहले रोटरी नहीं हटने के कारण अटका रहा, जैसे-तैसे रोटरी हटी, तो बीच में पिलर-रोटरी बनाने-नहीं बनाने को लेकर ऊहापोह की स्थिति रही। आइआइटी की सलाह आने और जनप्रतिनिधियों में सहमति बनने के बाद अब पीडब्ल्यूडी के भोपाल मुख्यालय सेे औपचारिक मंजूरी आने का इंतजार है। तय यह किया गया है कि गोल रोटरी के बजाय मध्य भाग में ओवल शेेप की रोटरी बनाई जाए। मध्य भाग इसी हिसाब से बनेगा, लेकिन रोटरी का आकार और घटाते हुए उसे कैप्सूल शेप में बनायह रोटरी कैप्सूल आकार की होगी।

आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि भोपाल सेे काम शुरू करने की मौखिक स्वीकृति तो मिल गई है। अब केवल मध्य भाग की फाइनल ड्राइंग-डिजाइन आने का इंतजार कर रहे हैं। उम्मीद है कि सोमवार-मंगलवार तक यह काम हो जाएगा और काम शुरू कर सकेंगे। रोटरी की डिजाइन कैसी हो, इस बारे में भोपाल मुख्यालय ने नई दिल्ली केे कंसल्टेंट से भी सुझाव मांगा है।आइआइटी ने पीडब्ल्यूडी को चौराहेेे पर दोनों पिलर शामिल करते हुए 16.50 मीटर व्यास की रोटरी बनाने का विकल्प दिया है।

Posted By: gajendra.nagar

NaiDunia Local
NaiDunia Local