Bhayyu Maharaj Suicide Case: इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। भय्यू महाराज आत्महत्या मामले में शुक्रवार को सरोज सोलंकी का प्रतिपरीक्षण हुआ। उसने सालों तक महाराज के यहां उनके लिए खाना पकाया था। इस गवाह ने यह कहकर सभी को चौका दिया कि महाराज की दूसरी पत्नी आयुषी ने उसे कभी महाराज की बीमारियों के बारे कोई जानकारी नहीं दी थी। उसने कभी यह भी नहीं बताया था कि महाराज को खाने किन-किन चीजों से परहेज है और उन्हें खाने में क्या नहीं देना है।सरोज ने कोर्ट को बताया कि दूसरी शादी के बाद से महाराज कम खु्श रहते थे। बेटी कुहू और दूसरी पत्नी आयुषी के बीच होने वाले विवादों को लेकर वे परेशान भी रहते थे। प्रकरण में अब 28 और 29 अक्टूबर को फिर सुनवाई होगी। दोनों ही दिन कोर्ट ने दो-दो गवाहों को बयान के लिए बुलाया था।

प्रकरण में अब तक ढाई दर्जन से ज्यादा गवाहों के बयान हो चुके हैं। शुक्रवार को आरोपितों की तरफ से एडवोकेट धर्मेंद्र गुर्जर, एडवोकेट आशीष चौरे और एडवोकेट इमरान कुरैशी ने सरोज सोलंकी का प्रतिपरीक्षण किया। एडवोकेट गुर्जर ने बताया कि गवाह ने यह भी स्वीकारा कि महाराज के लिए मीडिया का कामकाज देखने वाले शेखर शर्मा को महाराज की कई निजी जानकारी भी थी।

महाराज की मृत्यु के कुछ दिन पहले से सभी को पता था कि कुहू आने वाली है। महाराज नहीं चाहते थे कि कुहू और आयुषी का सामना हो क्योंकि दोनों के बीच अक्सर विवाद होते रहते थे। आयुषी के गर्भवती होने पर महाराज ने उसके माता-पिता को सिल्वर स्प्रिंग में एक बंगला दिया दिया था। गवाह ने कहा कि आरोपित विनायक महाराज का भरोसेमंद था। महाराज के पिता की मृत्यु होने पर उसने महाराज के साथ मिलकर उन्हें मुखाग्नि दी थी।

अब सुनवाई 28 और 29 को

प्रकरण में अगली सुनवाई 28 और 29 अक्टूबर को होगी। 28 अक्टूबर को सीएसपी अगम जैन और सीएसपी पल्लवी शुक्ला को तलब किया गया है। इसी तरह 29 अक्टूबर को हस्ताक्षर विशेषज्ञ और आरक्षक श्यामलाल तंवर को बयान के लिए बुलाया गया है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local