Indore News: इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। जैव विविधता दिवस के अवसर पर महाविद्यालय के विद्यार्थियों को जैवविविधता को विकसित करने एवं पर्यावरण संरक्षण में अपना योगदान देने के लिए प्रेरित करने के उद्देश्य से होलकर विज्ञान महाविद्यालय में बर्ड सर्वे का आयोजन किया गया। सर्वे पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में कार्य करने वाली वाईल्ड वारियर्स संस्था द्वारा किया गया। इसमें महाविद्यालय के सीड टेक्नालाजी विभाग के प्राध्यापक एवं सीड क्लब के 21 विद्यार्थियों ने भी वालेंटियर्स के रूप में भागीदारी दी। 36 एकड़ में फैला होलकर कालेज इंदौर शहर के बीच स्थित ऐसा महाविद्यालय है जहां जैव विविधता के विकास एवं संरक्षण को लेकर महत्वपूर्ण कार्य किये जा रहे है। परिसर में कई घने एवं फल वाले वृक्ष है जो कई प्रकार के पक्षियों का आश्रय स्थल के साथ साथ भोजन का स्त्रोत भी है।

महाविद्यालय के प्राचार्य डा. सुरेश सिलावट ने बताया कि बर्ड सर्वे के माध्यम से पक्षियों के बारे में विद्यार्थियों एवं आमजन को जानने का मौका मिले और विद्यार्थियों को पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से बर्ड सर्वे का आयोजन किया गया। हमें खुशी है कि हमारे विद्यार्थियों ने बड़े उत्साह से अपनी भागीदारी दी।

बीज तकनीकी विभाग के विभागाध्यक्ष डा. संजय व्यास ने बताया कि विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास के लिए उन्हें इस तरह की एक्टिविटी बेहद फायदेमंद है। हम इसे और आगे बढ़ाएंगे। वाईल्ड वारियर्स के अध्यक्ष सचिन मटकर ने बताया कि महाविद्यालय के विद्यार्थियों ने बड़े उत्साह से सर्वे में भागीदारी दी। सर्वे रिपोर्ट के माध्यम से हर विद्यार्थियों को पक्षियों की जानकारी मिल सकेगी।

कार्यक्रम संयोजक प्रो. धर्मेन्द्र जाट ने बताया कि हमारा प्रयास था कि विद्यार्थियों को यह जानकारी मिल सके के सर्वे कैसे किए जाते हैं। हम बटरफ्लाई प्लांट और अन्य के सर्वे में भागीदारी के माध्यम से महाविद्यालय के सभी विद्यार्थियों को नेचर से जोड़ने का प्रयास करेंगे। सीड क्लब की छात्रा नेहाश्वरी तिवारी ने अपने अनुभव साझा करते हुए बताया कि रोज कालेज आते है। कभी ध्यान ही नहीं गया कि हमारे परिसर में इतने पक्षी हैं।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close