Indore Court News: इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। नगर निगम चुनाव में वार्ड 65 से कांग्रेस के प्रत्याशी के रुप में नामांकन पत्र जमा करने वाले गोपाल कोडवानी का जन्म प्रमाण पत्र सही है या नहीं, यह शुक्रवार को तय हो जाएगा। निर्वाचन अधिकारी ने कोडवानी का नामांकन पत्र यह कहते हुए निरस्त कर दिया था कि नामांकन पत्र के साथ संलग्न जाति प्रमाण पत्र गोपीचंद के नाम से जारी हुआ है जबकि प्रत्याशी ने अपना नाम गोपाल बताया है। गोपाल और गोपीचंद एक व्यक्ति नहीं हो सकते।

कोडवानी ने इसे चुनौती देते हुए हाई कोर्ट में याचिका प्रस्तुत की है। उनका कहना है कि उन्होंने पिछले चुनाव में भी इसी तरह का जाति प्रमाण पत्र प्रस्तुत किया था। तहसीलदार द्वारा जारी जाति प्रमाण पत्र के आधार पर निर्वाचन अधिकारी ने उनका नामांकन पत्र स्वीकार किया था। जब पिछली बार नामांकन पत्र स्वीकार लिया गया तो इस बार क्यों नहीं। कोडवानी की याचिका पर सुनवाई करते हुए हाई कोर्ट ने निर्वाचन आयोग और शासन से दो दिन में जवाब मांगा था। कोडवानी की तरफ से पैरवी कर रहे एडवोकेट अंशुमन श्रीवास्तव ने बताया कि शुक्रवार को याचिका पर न्यायमूर्ति सुबोध अभ्यंकर की पीठ के समक्ष सुनवाई होना है।

बल्लाकांड में भी सुनवाई आज

शुक्रवार को ही बल्लाकांड में भी सुनवाई होना है। हालांकि यह जिला न्यायालय में विशेष न्यायाधीश के समक्ष होगी। गौरतलब है कि नगर निगम कार्रवाई के दौरान विधायक आकाश विजयवर्गीय और नगर निगम के तत्कालीन भवन अधिकारी के बीच विवाद हो गया था। आरोप है कि विजयवर्गीय ने अधिकारी पर बल्ला उठा लिया था। एमजी रोड़ पुलिस थाने में इस मामले में विजयवर्गीय के खिलाफ प्रकरण भी दर्ज हुआ। शुक्रवार को इस बात पर बहस होना है कि तत्कालीन भवन अधिकारी और मामले में एफआइआर दर्ज कराने वाले धीरेंद्र बायस को दोबारा बयान के लिए बुलाया जाना चाहिए या नहीं।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close