इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि Indore News। महामारी की प्रथम लहर में हमारा देश जिसकी आबादी 135 करोड़ से अधिक है एवं संस्कृति, रहन-सहन भिन्न है। ऐसे में महामारी से लड़ने के लिए एक सोच बनाना हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती रही है। लोगों के बीच शारीरिक दूरी का पालन करके संक्रामक बीमारी के प्रसार को रोकने का गैर- दवा हस्तक्षेप वाला उपाय भी चुनौतीभरा था। शुरुआती दिनों की सच्चाई यह थी कि हमारे पास एन-95 मास्क नहीं थे। पीपीई किट भी नहीं थी। आरटीपीसीआर की जांच के लिए लैब पुणे में थी। इन सभी चुनौतियों से हमारा देश सफलतापूर्वक उबरकर आ गया है। यह कहना है भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद के एपिडेमियोलाजी एवं कम्यूनिकेबल डिसिस के विशेषज्ञ पद्मश्री डा. रमन गंगाखेडकर का।

गुरुवार को श्री वैष्णव प्रबंध संस्थान के सृजन कार्यक्रम के उद्घाटन समारोह में वे आनलाइन मोड पर शामिल हुए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 की जांच की आरटीपीसीआर विधि सबसे अच्छी है। यदि आप किसी कोविड-19 मरीज के संपर्क में आए हैं तो तीन से पांच दिनों में आरटीपीसीआर करवाना उचित होगा। अगर दो गज की दूरी, एन-95 मास्क, 20 सेकंड तक साबुन से हाथ धोते हैं तो इस बीमारी से बच सकते हैं। इस बीमारी से बचने के लिए टीका आ चुका है। इसे बिना किसी संकोच के लगवाना चाहिए।

टीके से मौत के खतरे को आप पूर्णरूप से दूर कर सकते हैं। टीका लगवाने के बाद भी आपको कोविड-19 प्रोटोकाल का पालन अवश्य रूप से करना चाहिए। उन्होंने कहा कि दिसंबर 2021 तक ज्यादातर लोगों को टीका लग जाएगा। सभी व्यवस्थाएं सामान्य हो जाएगी। यदि इस महामारी के समय में अच्छाई ढूंढे तो हम पाएंगे कि इस समय ने कई परिवारों को जोड़ा है। हम बुजुर्गों का ध्यान रख पा रहे हैं। स्वच्छता रखने के कारण कई बीमारियां दूर हुई है।

श्री वैष्णव विद्यापीठ विश्वविद्यालय के कुलाधिपति पुरुषोत्तमदास पसारी ने कहा कि डा. रमन गंगाखेडकर का नाम देश ही नहीं विदेशों में भी जाना जाता है। उनके द्वारा बताया गया था कि भारत में कोरोना वायरस के तीन अलग-अलग स्ट्रेन है और 69 फीसद मामले असिम्टोमेटिक है। उन्होंने समय समय पर कोविड-19 की जांच करने के लिए आरटीपीसीआर जांच कराने पर पर जोर दिया था। कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के कुलपति डा. उपिंदर धर, प्रबंध सस्थान के निदेशक डा. जार्ज थामस और अन्य सदस्य भी मौजूद थे।

Posted By: Sameer Deshpande

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags