Corona Alert Indore: इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। केस एक- प्रफुल्ल नामक युवक कोरोना के गंभीर लक्षणों के साथ चार दिन तक बाजार में घूमता रहा। कामकाज के दौरान वह कई लोगों से मिला। लोगों ने उसे कोरोना की जांच कराने की सलाह भी दी लेकिन वह इसे नजर अंदाज करते हुए सर्दी-जुकाम की साधारण गोली लेता रहा। चार दिन बाद हालत बिगड़ी तो युवक ने जांच कराई। इसमें कोरोना की पुष्टि हुई। चार दिन के दौरान युवक कई लोगों को संक्रमित कर चुका था।

केस दो- कालेज की छात्रा सप्ताहभर से सर्दी-जुकाम से पीड़ित थी। डाक्टर को दिखाने के बजाय वह मेडिकल स्टोर से सर्दी-जुकाम की दवाई लेकर कालेज जा रही थी। सप्ताहभर बाद भी सर्दी नहीं गई तो स्वजन ने उसकी जांच करवाई। इसमें कोरोना की पुष्टि हुई। सप्ताहभर के दौरान युवती कई लोगों को संक्रमित कर चुकी होगी।

ये दो मामले बानगी हैं कि कैसे शहरवासी कोरोना को लेकर लापरवाही बरत रहे हैं। कोरोना शहर में एक बार फिर अपने पैर पसारने की कोशिश कर रहा है। पिछले तीन दिन में इंदौर में कोरोना के 100 से ज्यादा नए मरीज मिल चुके हैं। चिंता की बात यह है कि संक्रमण दर भी लगातार बढ़ रही है। 27 जून को तो यह 47 प्रतिशत के करीब पहुंच गई थी। यानी उस दिन शहर में जांचा जाने वाला हर दूसरा सैंपल संक्रमित मिला था। यह डरावनी स्थिति है। विशेषज्ञों का कहना है कि इस वक्त कोरोना की सैंपलिंग बढ़ाई जाना चाहिए ताकि संक्रमण को फैलने और गंभीर होने से पहले ही नियंत्रित किया जा सके।

शासन खुद सैंपलिंग बढ़ाए जाने का समर्थन कर रहा है लेकिन दिक्कत यह है कि लोग सैंपल देने के लिए आगे ही नहीं आ रहे। डाक्टरों का कहना है कि कोरोना के टीके लगने का मतलब यह नहीं है कि भविष्य में आपको कभी कोरोना होगा ही नहीं। हां इतना जरूर है कि कोरोना का आक्रमण होने पर टीके की वजह से बनी एंटीबाडी वायरस से लड़कर उसे खत्म कर देगी।

सैंपल देने के लिए आगे आएं लोग

स्वास्थ्य विभाग ने शासकीय अस्पतालों, क्लीनिकों पर सैंपलिंग की व्यवस्था की है। हम लोगों से अपील करते हैं कि वे ज्यादा से ज्यादा सैंपल दें। कोरोना का कोई भी लक्षण जैसे सर्दी-जुकाम हो तो तुरंत जांच करवाएं।

- डा. बीएस सैत्या, सीएमएचओ इंदौर

बुधवार को मिले कोरोना के 41 नए संक्रमित

कोरोना मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी होती जा रही है। बुधवार रात जारी पिछले 24 घंटों के आंकड़ों के मुताबिक 566 मरीजों के सैंपलों की जांच की गई। इसमें 41 नए संक्रमित मिले जबकि 30 मरीज उपचार के बाद स्वस्थ हुए। अच्छी बात यह रही कि किसी भी मरीज की मौत नहीं हुई। अब तक कुल 38 लाख 13 हजार 239 सैंपलों की जांच की गई है। इसमें से 2 लाख 8 हजार 641 मरीज पाजिटिव मिले हैं। मरने वालों का कुल आंकड़ा 1463 है। इसके अलावा स्वस्थ होने पर डिस्चार्ज किए गए कुल मरीजों की संख्या अब 2 लाख 6 हजार 954 पर पहुंच गई है।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close