ऑटो रिक्शा चालक की हत्या का मामला, चार आरोपितों की तलाश

इंदौर। नईदुनिया प्रतिनिधि

तुकोगंज थाना पुलिस ने ऑटो रिक्शा चालक की हत्या में फरार दो आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है। उन पर दो-दो हजार रुपए का इनाम घोषित था। आरोपितों ने चर्चित भगवान दलवी हत्याकांड में बयान नहीं बदलने पर रिक्शा चालक की हत्या करना कबूला है। चार आरोपित अभी भी फरार हैं।

टीआई निर्मल श्रीवास के मुताबिक, 20 सितंबर को आरोपित विक्का उर्फ विकास, गोलू उर्फ संदीप, कुणाल, विजय जाधव, सुरजीत उर्फ पपिया और प्रदीप जाधव ने रिक्शा चालक नीलेश दलवी की बाल विनय मंदिर स्कूल के पास चाकू मारकर हत्या कर दी थी। पुलिस ने सभी आरोपितों की गिरफ्तारी पर इनाम घोषित किया था। गिरफ्तार आरोपित गोलू और विक्का ने पूछताछ में कबूला कि नीलेश के भाई भगवान दलवी की एक वर्ष पूर्व हत्या हुई थी, जिसमें पपिया भी शामिल है। नीलेश उसमें मुख्य गवाह था। पपिया बयान बदलने के लिए उस पर दबाव बना रहा था। घटना के एक दिन पूर्व उसका विवाद भी हुआ था। दूसरे दिन योजनाबद्ध तरीके से नीलेश का पीछा किया और जैसे वह बच्चे लेने स्कूल पहुंचा, उसकी आंख में मिर्च झोंककर चाकुओं से हमला कर दिया।

तैराक की हत्या में शामिल पांच आरोपितों को जेल भेजा

छत्रीपुरा थाना पुलिस ने राष्ट्रीय तैराक हर्ष उर्फ बिट्टू पाठक की हत्या में शामिल मुख्य आरोपित राहुल बैरागी सहित रंजीत बैरागी, अर्जुन, अजय शिंदे और अभिषेक वर्मा को शनिवार को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया। टीआई संतोषसिंह यादव के मुताबिक, आरोपितों ने पूछताछ में कबूला कि राहुल का हर्ष के दोस्त राजू चौधरी से गरबे में विवाद हो गया था। दोनों पक्ष एक-दूसरे को देख लेने की धमकी दे रहे थे। घटना के पूर्व राहुल और राजू में फोन पर कहासुनी हुई और धार रोड पर एकत्रित हो गए। आरोपितों ने चाकू से हमला किया तो राजू साथियों के साथ भाग गया। हर्ष की गाड़ी डिवाइडर से टकरा गई और आरोपितों ने उस पर पेवर ब्लॉक से हमला कर दिया।