- आत्महत्या करने वाले अस्पतालकर्मी को परेशान करने वालों पर केस दर्ज करने के आदेश

इंदौर। नईदुनिया प्रतिनिधि

जहर खाकर आत्महत्या करने वाले अस्पतालकर्मी को सूदखोर कर्मचारी परेशान करते थे। आरोपितों ने उसका एटीएम कार्ड भी छीन लिया था॥ उसके खाते में वेतन आते ही एटीएम से निकाल लेते थे। जांच के बाद एसपी ने सभी के खिलाफ केस दर्ज करने के आदेश दिए हैं।

द्वारकापुरी थाना पुलिस के मुताबिक, शासकीय चिकित्सालय में नौकरी करने वाले विनोद पानसे ने दो अगस्त को आत्महत्या कर ली थी। उसके घर से पुलिस को सुसाइड नोट मिला था, जिसमें विनोद ने अस्पताल के ही कर्मचारी अमित तिवारी और देवेंद्र वैध पर सूदखोरी का आरोप लगाया था। परिजन ने भी पुलिस को बताया कि आरोपित लाखों रुपए वसूल चुके थे। देवेंद्र ने एटीएम कार्ड भी छीन लिया था। वह हर महीने खाते से रुपए निकाल लेता था। इसी तरह टेंट व्यवसायी अतुल शर्मा निवासी सुदामा नगर की आत्महत्या में भी धीरज नागर, धर्मेंद्र जैन, जितेंद्र लोधी, पिंकेश मोदी और संजय ठाकुर को दोषी पाया है। पुलिस के मुताबिक, आरोपितों ने अतुल से कोरे चेक ले लिए और बाउंस करवाकर कोर्ट में केस लगा दिए थे।

दुकान और वाहन पर कब्जा करने वाले सूदखोर दंपती पर केस

द्वारकापुरी थाना पुलिस ने दिलीप माठोलिया निवासी गुरुशंकर नगर की शिकायत पर आरोपित गुणवंत जैन और उसकी पत्नी संध्या निवासी परिवहन नगर के खिलाफ सूदखोरी का केस दर्ज किया है। पीड़ित ने बताया कि उसने दंपती से वर्ष 2017 में अलग-अलग किस्तों में 4 लाख 10 हजार रुपए लिए थे। आरोपितों ने 10 प्रतिशत की दर से ब्याज वसूला और 3 लाख 69 हजार रुपए ले चुके हैं। दंपती ने उसके लोडिंग वाहन और दुकान पर भी कब्जा कर लिया और लाखों रुपए की मांग की।