- इंदौर के मास्टर प्लान में शामिल होंगे 79 गांव

- देवास, पीथमपुर व धार का मास्टर प्लान भी करेंगे शामिल

इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। स्वच्छता में छठी बार भी नंबर एक आने के साथ देश में पहली बार सेवन स्टार सिटी का तमगा हासिल करने वाले इंदौर को राज्य शासन द्वारा विकास कार्यों के लिए सात करोड़ रुपये दिए जाएंगे। नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह ने गुरुवार को ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर में आयोजित सफाई मित्र सम्मान समारोह में यह बात कही।

उन्होंने बताया कि इंदौर के मास्टर प्लान में 79 गांवों को शामिल किया जाना प्रस्तावित है। साथ ही धार, पीथमपुर व देवास का मास्टर प्लान भी इसमें शामिल किया जाएगा। नगरीय निकायों में आउटसोर्स पर काम करने वाले सफाई मित्रों को स्थायीकर्मी के रूप में रखने का प्रस्ताव शासन शीघ्र स्वीकृत करेगा। विनियमित कर्मचारियों को नियमितीकरण किया जाएगा। इंदौर का यातायात बेहतर बनाने के लिए मास्टर प्लान बनाया जा रहा है।

इंदौर सहित प्रदेशभर में अवैध कालोनियों का नियमितीकरण किया जाएगा। स्वच्छता मिशन के तहत प्रदेश को पूरी तरह कचरा मुक्त बनाने के लिए कचरा प्रसंस्करण क्षमता 75 प्रतिशत बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। महापौर पुष्यमित्र भार्गव ने कहा कि इस बार दीपावली के पहले निगम के कर्मचारियों को अग्रिम वेतन दिया जाएगा। मंत्री ने कहा कि सफाई मित्रों को महीने की 5 तारीख को वेतन मिल जाए, यह सुनिश्चित करेंगे।

समारोह में ये घोषणाएं

- नगर निगम इंदौर में छह के बजाय 12 एल्डरमैन होंगे।

- कंपाउंडिंग का प्रतिशत 10 था, जिसे बढ़ाकर 30 किया है।

- भवन अनुज्ञा की समयसीमा 30 दिन से घटाकर 15 दिन की गई है।

- अमृत 2.0 के तहत सभी नगरीय निकायों को पेयजल व सीवरेज योजना के लिए पांच साल में 12858.71 करोड़ रुपये खर्च होंगे।

- एसबीएम 2.0 के माध्यम से सभी शहरों को कचरा मुक्त बनाने व अपशिष्ट जल प्रबंधन पर पांच साल में 4913.74 करोड़ रुपये का निवेश होगा।

- प्रदेश में 1500 बसों का संचालन और इंदौर, भोपाल व जबलपुर में 217 ई-चार्जिंग स्टेशन बनेंगे।

- कालोनाइजर एक ही लाइसेंस पर प्रदेश में कहीं भी काम कर सकेगा।

- भूमाफिया से प्रदेशभर में मुक्त करवाई गई 21 हजार एकड़ शासकीय जमीन पर गरीबों के आवास बनाने के लिए पट्टे दिए जाएंगे।

- नई फायर पालिसी के तहत जब तक इमारत का कार्य पूर्ण नहीं होगा, उन्हें प्रोविजनल एनओसी नहीं जारी की जाएगी। इमारत की जांच के बाद उन्हें एनओसी दी जाएगी।

विजयवर्गीय के तीखे बोल: जनता और सफाई मित्रों से नंबर वन है इंदौर

आयोजन में भाजपा के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि कि इंदौर शहर की स्वच्छता का श्रेय सफाईकर्मियों और शहर की जनता को जाता है। इसके लिए सिर्फ अधिकारियों को श्रेय नहीं दिया जा सकता है। शहर की जनता ने ही इंदौर को नंबर वन बनाया है। अधिकारियों में दम होता तो इंदौर कलेक्टर जब उज्जैन गए थे, तब वे उज्जैन को नंबर वन नहीं बना पाए। इसी तरह इंदौर के निगम कमिश्नर रहे उज्जैन कलेक्टर भी उज्जैन को नंबर वन नहीं ला सके। उन्हें तो अमिताभ बच्चन ने सम्मानित भी किया था। इंदौर शहर नंबर वन यहां की जनता के कारण है और उसका सम्मान किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इंदौर को मिले सात करोड़ रुपये से सफाई मित्रों के रहवासी क्षेत्रों में भी विकास कार्य होना चाहिए।

तैयार करें जोनल मास्टर प्लान

मंच से विजयवर्गीय ने मंत्री सिंह से कहा कि जब मैं मंत्री था, तब इंदौर के लिए एक जोनल मास्टर प्लान की कल्पना की थी। उसमें इंदौर, उज्जैन, धार, देवास व खंडवा को जोड़ने की बात कही थी। देवास में इंटरनेशनल एयरपोर्ट बन रहा है। इंदौर का मौजूदा रेलवे स्टेशन काफी छोटा पड़ेगा। ऐसे में इंदौर के बाहर एक नया रेलवे स्टेशन एक हजार एकड़ जमीन पर धार या उज्जैन में बनाना होगा। 25 साल बाद के इंदौर की कल्पना अभी से करेंगे तो अगले 100 साल तक इंदौर बेहतर होगा। इंदौर के मास्टर प्लान से देवास व अन्य शहरों के मास्टर प्लान को लिंक करना होगा। इंदौर में भविष्य के हिसाब से चार सराफा मार्केट, पांच बर्तन बाजार और 10 कपड़ा बाजार बनाना होंगे। तभी इंदौर भविष्य में रहने लायक शहर बनेगा।

इस तरह हुआ सफाई मित्रों का सम्मान

- सफाई मित्रों पर फूल बरसाए।

- लोक कलाकारों के साथ सफाई मित्रों ने नृत्य किया।

- सफाई मित्रों के लिए विशेष भोज का आयोजन हुआ।

- मंच पर सफाई कर्मचारियों के अलग-अलग संगठन व निगम के जोन स्तर की टीमों को सम्मानित किया गया।

आकाश विजयवर्गीय ने की सफाई मित्रों को प्रोत्साहन राशि देने की मांग

विधायक आकाश विजयवर्गीय ने मुख्यमंत्री से की सफाई मित्रों को दीपावली के पहले 10 हजार रुपये प्रोत्साहन राशि देने की मांग।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close