कॉलम : न्यूट्रीशियन की सलाह

अभी जिस तरह का मौसम है उसमें आहार का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है, क्योंकि यह वह वक्त है जिसमें यदि जरा भी लापरवाही बरती जाए तो सेहत पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है। हर मौसम में स्वस्थ रहने के लिए जरूरी है कि मौसमी, स्थानीय तथा ऑर्गेनिक फल-सब्जी का सेवन करना चाहिए। इस मौसम में सबसे पहले शकर का सेवन बंद करें, क्योंकि शकर से रोग प्रतिरोधक क्षमता घट जाती है। शकर के स्थान पर गुड़ खाएं वह सेहत के लिए उत्तम है। जिन्होंने नौ दिन तक व्रत किया है और सब्जी नहीं खाई वे अब लिक्विड या सेमीलिक्विड सब्जी लें। सब्जी उबली हो और उसमें कालीमिर्च, सेंधा नमक, हल्दी, अदरक और लहसुन डालें। एक-दो दिन इस तरह से ही सब्जी लें। इससे पोषक तत्व भी मिलेंगे और शरीर को क्षति भी नहीं पहुंचेगी। इस मौसम में काढ़े की बात है तो बच्चों से लेकर बड़े तक के लिए अब ऐसे काढ़े की जरूरत है जिससे रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़े और शरीर को नुकसान भी नहीं पहुंचे। इसके लिए तीन चम्मच जीरा, एक-एक चम्मच सौंफ, सौंठ, आधा चम्मच कालीमिर्च लेकर उसे हल्का सा सेंक लें और इसे पीस लें। अब इसमें तीन चम्मच हल्दी पाउडर मिलाएं। एक गिलास पानी लेकर उसमें एक चौथाई चम्मच यह पाउडर डालकर एक उबाल ले लें और फिर जब यह सामान्य तापमान पर आ जाए तो इसमें दो-तीन बूंद तुलसी स्वरस की डालकर पिएं। जिन्हें कफ की समस्या है वे खाली पेट लें, शेष लोग कुछ खाकर इसे पिएं। जिन्हें गर्मी की समस्या है वे इसमें एक चम्मच धनिया भी डाल सकते हैं। बच्चों को यह काढ़ा एक कप ही दें।

- डॉ. प्रीति सिंह, आयुर्वेद एवं पोषण विशेषज्ञ

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस