Common Law Entrance Test: इंदौर (नईदुनिया रिपोर्टर)। नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी और अन्य लॉ कॉलेजों में में एडमिशन के लिए 28 सितंबर को हुए कॉमन लॉ एंट्रेंस टेस्ट (क्लेट) को लेकर एक नई समस्या विद्यार्थियों के सामने आ गई है। विशेषज्ञों का कहना है कि क्लेट की आंसर-की में 17 प्रश्नों के जो जवाब जारी किए गए हैं, वह गलत है। इसके चलते विद्यार्थी अपने अंकों की गणना नहीं कर पा रहे हैं।

विद्यार्थियों का कहना है कि वे परीक्षा में प्रश्न का सही जवाब देकर आए थे, लेकिन आंसर-की में किसी दूसरे ऑप्शन को सही बताया जा रहा है। इसे लेकर विद्यार्थी काफी नाराज है और कोर्ट जाने की तैयारी की जा रही है।

हालांकि क्लेट कराने वाली कमेटी ने कहा है कि फिलहाल आंसर-की प्रोविजनल है। असल आंसर-की पांच अक्टूबर को परिणाम के साथ ही जारी की जाएगी। शहर से कई विद्यार्थियों ने क्लेट कमेटी को इस संबंध में ईमेल किया है और कहा है कि वे आंसर-की सही करें। शहर से परीक्षा में करीब एक हजार विद्यार्थी शामिल हुए थे।

17 से 20 अंक का अंतर

क्लेट देने वाले यश महाजन का कहना है कि परीक्षा में जितने अंकों के प्रश्नों के जवाब देकर आया था उसका आंसर-की से मिलान किया तो 17 से 20 अंक का अंतर आ रहा है। मुझे 102 अंक मिलना चाहिए थे लेकिन गणना करने पर 82 ही अंक मिल रहे हैं।

परीक्षा के विशेषज्ञ आशीष नायक का कहना है कि क्लेट परीक्षा बहुत कठिन मानी जाती है। विद्यार्थी कड़ी मेहनत करते हैं। क्लेट जैसी परीक्षा में आंसर-की गलत जारी करने से विद्यार्थी तनाव में आ गए हैं। इस बार परीक्षा में जनरल नॉलेज और गणित के प्रश्न काफी टफ पूछे गए थे। विद्यार्थी बड़ी मुश्किल से प्रश्नों के जवाब दे पाए थे।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags