मालवा-निमाड़ (हमारे प्रतिनिधि)। Corona virus effect in Madhya Pradesh अंचल में लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराया जा रहा है। बेवजह घूम रहे लोगों से पुलिस ने उठक-बैठक कराई और डंडे मारकर भगाया। छूट के दौरान बिना मास्क पहने भीड़ दुकानों पर सामग्री खरीदती नजर आई। हालांकि भीड़ कम करने के लिए नए प्रयोग भी किए जा रहे हैं। किराना, दवा दुकान के बाहर चूने से गोले बनाकर ग्राहकों को निश्चित दूरी पर खड़ा कर सामान दिया गया। इधर, चैत्र नवरात्र के पहले दिन पहली बार बिना श्रद्धालुओं के मंदिरों में पूजा और हवन हुए। लोगों ने घरों में ही पूजा-अर्चना की। हिंदू नव वर्ष का भी घरों पर ही स्वागत किया गया।

उज्जैन के माधवनगर अस्पताल में 75 वर्षीय बुजुर्ग की इलाज के दौरान मौत हुई थी। कोरोना के लक्षण मिलने मरीज से सैंपल लेकर जांच के लिए भोपाल भेजे गए हैं। उसकी रिपोर्ट नहीं मिली है। बुजुर्ग एक महीने पहले दुबई से लौटा था।

रतलाम में छूट के दौरान मंडी, किराना आदि दुकानों पर सार्वजनिक स्थानों पर भीड़ रही, जिसे पुलिस व प्रशासन ने सख्ती से हटवाया। पावर हाउस रोड स्थित नीलाम मंडी में बड़ी संख्या में लोग बगैर मास्क के ही सब्जी बेचने व खरीदने पहुंचे। सख्ती के चलते जिले में बेवजह घूमने वालों की संख्या में कमी आई। समाजसेवियों के सहयोग से प्रशासन द्वारा जरूरतमंदों को भोजन के पैकेट उपलब्ध कराए गए।

झाबुआ जिला अस्पताल के आरएमओ डॉ. सांवत चौहान ने बताया कि 20 मरीज विदेशों या अन्य राज्यों से आए थे। सभी संदिग्ध मरीजों की जांच की गई। उन पर नजर भी रखी गई। इनमें से दो में ही गंभीर लक्षण दिख रहे थे। दोनों का सैंपल लेकर लैब में भेजा गया था। एक मरीज की रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है, दूसरे की रिपोर्ट आने का इंतजार है।

खरगोन में पुलिस ने नियमों का पालन नहीं करने पर पुलिस ने हल्का बलप्रयोग भी किया। प्रशासन ने मेडिकल दुकानों के बाहर सोशल डिस्टेंस मेंटेन रखने के लिए मार्किंग की। चित्तौड़गढ़-भुसावल राष्ट्रीय मार्ग के सीमावर्ती महाराष्ट्र सीमा और शेरीनाका (छेंडिया अंजन) मेंं दोनों प्रांतों की सीमा सील करने से 25-30 भारी वाहन फंसे हुए हैं। ड्राइवरों व क्लीनरों धार्मिक संगठन और संतों ने भोजन की व्यवस्था की है।

धार जिले में पांच में से दो मरीजों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। त्रिमूर्ति नगर में 60 से अधिक परिवारों ने अपने घरों के बाहर पर्यावरण की बेहतरी और कोरोना संक्रमण की मुक्ति के लिए यज्ञ किया।

मंदसौर में सब्जी विक्रेताओंं को मोहल्लों व कॉलोनियों में जाकर सब्जी बेचने की छूट दी गई थी तो सुबह यह भी अलग-अलग क्षेत्रों में पहुंचे। इधर किराना व्यवसायियोें ने भी घर पहुंच सेवाएं दी। जहां भी लापरवाही रही पुलिस ने लोगों पर डंडे भी चलाए। जिले से भेजे गए दो सेंपल की रिपोर्ट नहीं आई है। 57 दल गांव-गांव में जाकर लोगों के सर्दी जुकाम व अन्य बीमारियों की स्थिति में जांच कर रहे हैं।

नीमच में सुबह 4 घंटे की दी गई ढील में नागरिकों ने डिस्टेंसिंग व्यवस्था को ध्वस्त किया। जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन ने निर्देश जारी किए हैं कि नियम तोड़ने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज भी की जा सकती है।

*खंडवा में नियम तोड़ने वालों को पुलिस ने मुर्गा बनाकर या उठक-बैठक लगवाकर सबक सिखाया। जिले में जनवरी से अब तक 100 से अधिक लोगों की विदेश से आने की सूची सामने आई है। इन्हें तलाश कर स्वास्थ्य परीक्षण कि या जा रहा है। गांव सिहाड़ा में कक्षा पहली का छात्र उबेद खान का सातवां जन्मदिन था। उसने बुआ से मिले पैसों से 50 मास्क खरीदे और पिता अमजद खान के साथ गांव के खदान क्षेत्र की बस्ती में गया और बच्चों सहित मजदूर महिलाओं को वितरित किए।

बुरहानपुर में सुबह कु छ समय के लिए खुली सब्जी मंडी में सब्जी व फल लेने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ी। बाजार में बखौफ घूम रहे युवकों को पुलिस ने लाठियां भांजकर भगाया। पुलिस की सख्ती से बाजार खाली हुआ।

पुजारियों की अपील-मंदिर न आएं

अंचल में बुधवार को नवसंवत्सर व नवरात्र के लगभग सभी आयोजन निरस्त किए गए हैं। हरसिद्धि, गढ़कालिका, चामुंडा माता आदि मंदिरों के पुजारियों ने श्रद्धालुओं से मंदिर ने आने की अपील की है। श्रद्धालुओं से कहा गया है कि वे घर पर ही शक्ति की आराधना करें। झाबुआ में माता मंदिरों में दर्शन के लिए एक-एक लोग को ही मंदिर में प्रवेश दिया गया।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

fantasy cricket
fantasy cricket