इंदौर। Coronavirus effect in Madhya Pradesh : शहर में कोराेना संक्रमित मरीजों की संख्‍या में बढ़ोतरी को देखते हुए अब 30 मार्च से तीन दिन के लिए पूरी तरह लाॅक डाउन रहेगा। इस दौरान केवल दवाइयां ही मिल सकेंगी।

इस दौरान शहर की सड़कों पर न दो पहिया वाहन चल पाएंगे न ही चौपहिया वाहन। इसके साथ पेट्रोल पंप सहित किराना सब्ज़ी दूध कोई भी दुकानें नहीं खोली जा सकेगी।

संभागायुक्त आकाश त्रिपाठी की अध्यक्षता में आज कलेक्टर कार्यालय में वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक में यह निर्णय लिए गए। बैठक में कलेक्‍टर मनीष सिंह, इंदौर निगम आयुक्‍त आशीष सिंह, आईजी विवेक शर्मा, डीआईजी हरिनारायण चारी आदि अधिकारी मौजूद थे।

बैठक में निर्देश दिए गए कि जिन घरों में कोरोना के मरीज़ मिले हैं उनके इर्द गिर्द रहने वालों को क्‍वारेंटाइन सेंटर में रखा जाएगा। पहीं शहर में मजदूर वर्ग बेसहारा और बिना छत के नहीं रहेगा। उनके लिए राधा स्वामी डेरे में व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी। संभागायुक्त के मुताबिक MRTB हास्पिटल को Covid हास्पिटल के रूप में चिन्हित कर दिया गया है। अरविंदो हास्पिटल से भी चर्चा चल रही है और प्रक्रिया पूरी होने पर इसे भी covid हास्पिटल के रूप में चिन्हित किया जाएगा।

लॉकडाउन से इनको रहेगी छूट

शासकीय या निजी अस्पतालों में कार्यरत कर्मचारी, अधिकारी, अन्य अमला और जरूरी सेवाओं में लगे सरकारी कर्मचारी। अग्निशमन, जेल, जलसेवा और बिजली विभाग के कर्मचारी। - पुलिस बल, अर्धसैनिक बल, नगर निगम, कार्यपालक मजिस्ट्रेट, विद्युत मंडल, इंटरनेट, डाकतार, टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर। - किसी भी तरह की एम्बुलेंस सेवा - लोकशांति या शासकीय कार्य में लगे अधिकारी-कर्मचारी - इलेक्ट्रॉनिक व प्रिंट मीडिया, सोशल मीडिया - मरीज, दवा, सैनिटाइजर, मास्क, चिकित्सा उपकरण, दवा के उपयोग में लाई जा रही कच्ची सामग्री और इन प्रतिष्ठानों, निर्माण इकाई में कार्यरत कर्मचारी, निर्मित सामग्री, उत्पाद व कच्ची सामग्री पर प्रतिबंध लागू नहीं होंगे। - वेतन और लेखा विभाग

आठ-दस दिन नहीं संभले तो शहर के हालात काबू से बाहर हो जाएंगे। अभी तो रानीपुरा में ही कोरोना वायरस फैला है, लोगों ने लॉकडाउन का खुद सख्ती से पालन नहीं किया तो हर इलाका रानीपुरा बन जाएगा। लोगों से अपील है कि वे बाहर न घूमें। सामान्य कर्फ्यू में तो लोग बाहर निकल भी जाते थे, लेकिन यह उस तरह का वक्त नहीं है। - मनीषसिंह, कलेक्टर

टेली मेडिसिन की सुविधा से घर बैठे होगा इलाज

वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए शारीरिक दूरी तथा व्यक्तियों को घर में रहने के उद्देश्य को सार्थक करने के लिये जिला प्रशासन ने इंदौर में टेली मेडिसिन सुविधा की शुरुआत की है।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि टेली मेडिसिन की सुविधा से घर बैठे इलाज हो सकेगा। शहर के नागरिक व्हाट्सअप पर वीडियो कॉल के माध्यम से परामर्श ले सकेंगे एवं आवश्यकता पड़ने पर मेडिकल मोबाइल यूनिट घर पहुंचकर लोगों की जांच करेगी। नागरिकों को अपने घर पर रहने की सलाह दी गयी है, जिससे शारीरिक दूरी बनाई जा सके एवं कोरोना के संक्रमण को रोका जा सके।

बताया गया कि मोबाईल नम्बर 74892-44895 पर व्हाट्सएप कॉल या व्हाट्सएप वीडियो द्वारा विशेषज्ञ चिकित्‍सकों से परामर्श लिया जा सकता है।

उल्लेखनीय है कि कोरोना के चलते लोगों के मन में भय की स्थित है। सामान्य सर्दी, खांसी होने पर भी लोगों को कोरोना का भय सता रहा है। इस स्थिति से निपटने के लिये टेली मेडिसिन सुविधा द्वारा शहर के नागरिकों की सर्दी, खांसी, जुकाम आदि के लक्ष्य को देखकर आवश्यक परामर्श दिया जा सकेगा। ऐसी स्थिति में जहां व्यक्ति को समक्ष परामर्श की आवश्यकता है,वहां मेडिकल मोबाईल यूनिट के द्वारा सेवा उपलब्ध कराई जा सकेगी।

जिला प्रशासन के द्वारा बताया गया कि इसका सेंटर स्मार्ट सिटीएआईसीटीएल पर होगा। जहां पर 24 घण्टे विशेषज्ञ परामर्श देंगे।

मेडिकल कॉलेज एलुमनाई एसोसिएशन एवं आय एम ए इंदौर की सार्थक पहल

एम जी एम मेडिकल कॉलेज एलुमनाई एसोसिएशन एवं आय एम ए इंदौर ने भी सार्थक पहल की है। विज्ञप्ति के अनुसार वरिष्ठ चिकित्सक, सदस्य जिन्हें डायबिटीज, हृदय रोग, उच्चरक्तचाप या अन्य समस्याओं के कारण कोरोना बीमारी से अतिरिक्त सावधानी बरतना है वे चाहें तो वर्तमान चिकित्सा आपातकाल में अपनी टेलीफोनिक सेवाएं व कोरोना से संबंधित शंकाओं का समाधान पेशेंट्स को दे सकेंगे।

एक टेलिफ़ोनिक परामर्श, हेल्पलाइन केंद्र आमजन के लिए आरम्भ करने की योजना आरम्भ की जा रही है। हर तीन दिन बाद 10 डॉक्टर्स की लिस्ट विभिन्न सामाजिक व्हाट्सएप ग्रुप एवं मीडिया के माध्यम से आमजन को दी जाएंगी।इसका समय प्रातः 9 से 1 एवं सायं 4 से 8 रहेगा।

लॉक डाउन के वक्त आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने हेतु नोडल अधिकारी नियुक्त

कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने की दृष्टि से कलेक्टर मनीष सिंह ने विभिन्न थाना क्षेत्रों से संबंधित समस्त व्यवस्थाओं जैसे भोजन, परिवहन, पास वितरण तथा स्वास्थ्य विभाग से अधिकृत चिकित्सकों से संबंध के कार्य के संपादन हेतु नोडल अधिकारी नियुक्त किये हैं। इन थाना क्षेत्रों में जूनी इंदौर, मल्हारगंज, परदेशीपुरा , अन्नपूर्णा, सेंट्रल कोतवाली, विजयनगर, संयोगितागंज, सराफा, गांधीनगर, खजराना, आजाद नगर आदि शामिल हैं।

उक्त आदेश के अनुसार थानेवार 33 कार्यपालिक दंडाधिकारी एवं नोडल अधिकारी नियुक्त किए गए हैं। कलेक्टर सिंह ने निर्देश दिए हैं कि नोडल अधिकारी आवश्यकता अनुसार अपने अधीनस्थ स्टाफ की ड्यूटी लगा सकेंगे। समस्त एसडीएम, सीएसपी, नगर निगम के अधिकारी अपने क्षेत्र में निरंतर उपस्थित रहकर सभी आवश्यक व्यवस्थाओं को सुनिश्चित करेंगे। तथा विभिन्न व्यवस्थाओं में आपसी समन्वय का कार्य देखेंगे।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना