Coronavirus in Indore : इंदौर। शनिवार आधी रात के बाद जारी हेल्थ रिपोर्ट में पांच नए कोरोना संक्रमित मरीज सामने आए हैं। इसमें चार पुरूष मरीज इंदौर और एक महिला उज्जैन की है। शुक्रवार को भेजे गए 63 सैंपलों में से 48 की जांच हुई। इसमें से नए पॉजिटिव केस मिले। कोरोना संक्रमितों के मिलने का क्रम लगातार चौथे दिन भी बना हुआ है। इंदौर में संक्रमितों की संख्या 20 और उज्जैन का आंकड़ा 4 पहुंच गया है।

यहां मिले मरीज : रानीपुरा के दौलतगंज निवासी 40 और 38 वर्षीय पुरुष, मुसाखेड़ी चंद्रपुरी कॉलोनी के 48 वर्षीय पुरूष, हाथीपाला के दौलतगंज में 21 वर्षीय युवक। यह सभी एमआरटीबी अस्पताल में भर्ती है। उज्जैन की 17 वर्षीय युवती वहीं के माधवनगर अस्पताल में भर्ती है।

98 सैंपल : शनिवार सात बजे तक कोरोना संदिग्धों के 98 सैंपल एमजीएम मेडिकल की बायरोलॉजी लैब को प्राप्त हुए थे। जिनमें से 79 सैंपल इंदौर के और 19 सैंपल उज्जैन, बड़वानी, शाजापुर और खरगोन के हैं।

एमआरटीबी अस्पताल में संदिग्ध मरीज की मौत

एमआरटीबी अस्पताल में इलाज के लिए आए एक मरीज की शनिवार शाम मौत हो गई। स्वजन का आरोप था कि तीन दिन पहले वह सर्दी-खांसी व बुखार की जांच के लिए अस्पताल पहुंचा था, लेकिन वहां से दवाई देकर होम आइसोलेट रहने की सलाह दी गई। शनिवार को गंभीर स्थिति में लेकर पहुंचे तो बचाया नहीं जा सका। स्वजन का कहना था कि मरीज की कोरोना संक्रमण की जांच की जानी थी।

जानकारी के अनुसार नूरानी नगर से नावेद खान को लेकर स्वजन एमआरटीबी अस्पताल पहुंचे थे। गंभीर स्थिति होने के कारण उसका चेकअप किया गया, लेकिन इलाज के दौरान ही उसने दम तोड़ दिया। मरीज के साथ पहुंचे स्वजन ने हंगामा भी किया। इधर, असरावद में बनाए गए क्वारंटाइन सेंटर में शुक्रवार को 19 संदिग्ध मरीज को क्वारंटाइन किया गया था। शनिवार सुबह इनमें से दो की तबीयत खराब होने पर जांच की गई। इनमें सर्दी-खांसी सहित कोरोना के लक्षण दिखाई दिए। इसके बाद इन्हें एमटीएच अस्पताल में बने आइसोलेशन सेंटर भेजा गया।

तीन मरीजों की हिस्ट्री पता कर रहा विभाग

स्वास्थ्य विभाग शुक्रवार को मिले तीन पॉजिटिव मरीजों की हिस्ट्री पता कर रहा है। प्रारंभिक जानकारी के बाद तीनों मरीजों के 11 स्वजन को असरावद स्थित सेंटर में रखा गया है। उधर, अरिहंत अस्पताल में भर्ती मरीज का कोई स्वजन सामने नहीं आया।

ट्रेनिंग सेंटर को बनाया जाएगा क्वारंटाइन सेंटर

एमवाय अस्पताल के ट्रेनिंग सेंटर को क्वारंटाइन सेंटर में बदला जाएगा। अभी यहां 50 बिस्तरों की व्यवस्था की गई है। अस्पताल को क्वारंटाइन सेंटर बनाए जाने के लिए डॉक्टरों सहित 20 नर्सिंग स्टाफ की व्यवस्था की गई है। मेडिकल कॉलेज डीन डॉ. ज्योति बिंदल ने बताया कि पॉजिटिव मरीजों का उपचार डब्ल्यूएचओ की गाइडलाइन के अनुसार किया जा रहा है। इसमें टेमीफ्लू दवाई के साथ ही अन्य एंटीबायोटिक का उपयोग किया जा रहा है, ताकि सर्दी-खांसी व बुखार सहित सांस लेने में तकलीफ और अन्य समस्याओं को नियंत्रित किया जा सके। गाइडलाइन के अनुसार हर अस्पताल में इन मरीजों का उपचार किया जा रहा है।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना