इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। Coronavirus in Indore मैं कोरोना से जंग जीतकर आया हूं। अस्पताल से डिस्चार्ज होने के बाद यही कहूंगा कि मरीजों को हताश होने की जरूरत नहीं है। जरूरत है तो कोरोना का डटकर सामना करने की। साहस, संयम और डॉक्टरों का सहयोग ऐसी दवा है जो कोरोना को हरा ही देगी। नर्सिंग स्टाफ और डॉक्टरों पर विश्वास रखो। मैं तो कोरोना से जंग जीत गया हूं। अब दूसरों को भी इसके लिए प्रेरित करूंगा। कुछ दिन मुझे सावधानी बरतने को कहा है।

सोमवार को इंदौर के एमआरटीबी अस्पताल से कोरोना का पहला मरीज डिस्चार्ज हो गया। एमआरटीबी अस्पताल के डॉक्टर, नर्सिंग स्टाफ और कर्मचारियों ने ताली बजाकर उसका स्वागत किया। वे उसे अस्पताल के गेट तक छोड़ने भी आए। एमवायएच के मेल नर्स राजेश आसावरा को कोरोना के लक्षणों के बाद होम क्वारंटाइन किया गया था। जैसे ही उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई वे खुद ही एमआरटीबी पहुंचे और इलाज के लिए भर्ती हो गए। सोमवार को वे कोरोना को पछाड़ते हुए अस्पताल से डिस्चार्ज हो गए। उनकी दोनों रिपोर्ट निगेटिव आई थी।

नईदुनिया से चर्चा में राजेश ने बताया कि अस्पताल के कर्मचारियों, डॉक्टरों की मेहनत का ही परिणाम है कि वे इस गंभीर बीमारी को हरा सके। उन्होंने कहा कि जिस दिन मुझे पता चला कि मुझे कोरोना संक्रमण है उस दिन कुछ पल को लगा था कि मेरी दुनिया ही खत्म हो गई है। लेकिन डॉक्टर, नर्सिंग स्टाफ और अस्पताल के कर्मचारियों ने मुझे प्रोत्साहित किया और मैं यह जंग जीत गया।

आसावरा ने कहा कि जरूरत संयम और साहस के साथ लड़ने की है। एमआरटीबी अस्पताल के डॉक्टर इतनी अच्छी तरह से मरीजों की देखभाल कर रहे हैं कि स्वजन को चिंता ही नहीं करनी चाहिए। अरबिंदो से बाहर आए 10 मरीज बोले- लगा था जिंदगी खत्म हो गई, लेकिन डॉक्टरों और नर्सिंग स्टॉफ ने हिम्मत दी कोरोना पॉजिटिव मरीजों के ठीक होकर अस्पताल से डिस्चार्ज होने का सिलसिला सोमवार से शुरू हुआ।

एमआरटीबी अस्पताल से एक मरीज के डिस्चार्ज होने के बाद अरबिंदो अस्पताल में भर्ती 10 कोरोना पॉजिटिव मरीजों को भी डिस्चार्ज कर दिया गया। ये सभी मरीज दूसरी बार कराई गई कोरोना जांच में निगेटिव मिले थे। जल्दी ही कुछ और मरीजों को डिस्चार्ज किए जाने की संभावना है।

अरबिंदो अस्पताल के डॉ. रवि दोसी के मुताबिक अस्पताल में फिलहाल करीब सौ मरीज भर्ती हैं। ये सभी कोरोना पॉजिटिव हैं। इन मरीजों मिली छुट्टी मोहम्मद सलीम डॉ. इकबाल कुरैशी वजीत कुरैशी शब्बीर रंगवाला करण सिसोदिया प्रहलाद अग्रवाल जितेंद्र सिसोदिया अंजू सिसोदिया आयशा आलिया

ये हैं प्रक्रिया

दो बार निगेटिव जांच के बाद की छुट्टी डॉक्टरों के मुताबिक दवा बंद करने के बाद जिन मरीजों में लगातार पांच दिन तक लक्षण नजर नहीं आए, उनकी कोरोना जांच कराई गई। जिन मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव आई, उन्हें 24 घंटे निगरानी में रखकर दोबारा जांच कराई गई। जिन मरीजों की लगातार दो जांच निगेटिव आई, उन्हें डिस्चार्ज किया गया। इन सभी मरीजों को 14 दिन तक घर में ही आइसोलेट रहने के लिए कहा गया है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस