Coronavirus Indore News: इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। इंदौर में पिछले एक सप्ताह में तेजी से कोविड संक्रमितों की संख्या में इजाफा हुआ है। पहले जहां इक्का-दुक्का मरीज मिल रहे थे, वहीं एक सप्ताह में 25 नए मरीज मिलने से प्रशासन की चिंता भी बढ़ी है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के मुताबिक जो कोविड संक्रमित मिले है उनमें कुछ मरीज ऐसे हैं जो हाल ही में दूसरे शहरों से लौटे हैं। स्वास्थ्य विभाग के अफसरों के मुताबिक दूसरे शहरों से होकर आने वाले जो मरीज पाजिटिव आए हैं, उनके सैम्पल जीनोम सिक्वेंसिंग जांच के लिए दिल्ली की लैब में भेजे जा रहे हैं।

इसके अलावा अभी जितने भी लोग पाजिटिव आ रहे हैं उनके सैम्पल भी इस जांच के लिए दिल्ली भेज रहे हैं। बीते एक सप्ताह में संक्रमण दर 0.05 प्रतिशत रही और रिकवरी दर 36 प्रतिशत दर्ज की गई। जबकि 25 अक्टूबर तक विगत एक माह में कोविड संक्रमण की दर 0.024 प्रतिशत थी वही रिकवरी दर 188.46 प्रतिशत दर्ज की गई थी। ऐसे में चिकित्सकों की सलाह है कि लोग त्योहार के दौरान पहले की तरह कोविड बचाव के तय मापदंडों का पालन करे।

दो दिन में आठ लोगों को राधास्वामी कोविड केयर सेंटर भेजा

स्वास्थ्य विभाग ने बीते दो दिनों में जो लोग पाजिटिव आए है, उनमें से आठ लोगों को राधास्वामी कोविड केयर भेजा गया है। सात मरीज फिलहाल अरबिंदों अस्पताल में भर्ती है और एक मरीज बाम्बे अस्पताल में भर्ती है।

सात लाख लोगों ने नहीं लगवाई दूसरी डोज

जिले में अब तक करीब सात लाख लोग बाकी है जिन्होंने तय समय बीतने के बाद भी अभी तक टीके की दूसरी डोज नहीं लगवाई है। चिकित्सकों के मुताबिक जिन लोगों ने पहली डोज लगवाने के बाद दूसरी डोज तय समय बाद भी नहीं लगवाई है। ऐसे लोगों को संक्रमण होने का 70 फीसद तक खतरा रहता है।

लोगों को भीड़भाड़ इलाकों में जाने से बचना होगा

वर्तमान में जो लोग पाजिटिव आए है उनकी कही न कही ट्रेवल हिस्ट्री रही है। त्योहार के कारण बाजारों में भीड़ भी हो रही है। खरीदी के लिए पहुंच रहे लोेग मास्क व शारीरिक दूरी जैसे नियमों का पालन नहीं कर रहे है। यही वजह है कि अभी मरीजों की संख्या बढ़ रही है। अभी लोगों को कोविड से बचाव के नियमों का सख्ती से पालन करने की जरुरत है। इसके अलावा जिन लोगों को दूसरी डोज लगना बाकी है वो जल्द ही दूसरी डोज लगवाए।

डा. बीएस सैत्या, सीएमएचओ

चिकित्सक सलाह

डायबिटीज व श्वसन रोगी विशेष रखें सावधानी

वर्तमान में मौसम बदलने व सर्दी बढ़ने के कारण कोविड व श्वसन रोग संबंधित मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है। अभी लोग बाजारों व भीड़भाड़ वाले इलाकों में जा रहे है और बच्चे भी स्कूल जा रह है। ऐसे में इन स्थानों पर जाने के दौरान काफी सावधानी रखने की जरुरत हे। अभी छोटे बच्चों को टीका लगना नहीं लगा है। ऐसे में उन्हें ठंड व भीड़भाड़ वाले इलाकों में जाने से रोके। लोग विटामिन सी गोलियों का सेवन इम्युनिटी बढ़ाने के लिए कर सकते हैं। जिन्हें डायबिटीज व श्वास संबंधित समस्यां है वो भी अपनी दवाएं नियमित रुप से लें। जिन्हें बीमारी है वो इंफ्लूएंजा व निमोनिया का टीका जरुर लगवाएं। इस तरह के प्रयास कर ही सोसायटी को संक्रमित होने से बचाया जा सकता है।

डा. सलिल भार्गव, छाती रोग विशेषज्ञ, एमजीएम मेडिकल कालेज

दूसरे शहर व विदेश से आने वाले मरीजों को लक्षण दिखे ताे चिकित्सक के पास जाएं

मुझे एक ऐसा भी मरीज मिला जिसने बताया कि विदेश जाने से पूर्व से उसे सर्दी जुकाम के लक्षण थे। उसने जांच करवाई थी जिसकी रिपोर्ट उसे उस समय तो नहीं मिली लेकिन जब वो अफ्रीका के नील नदी वाले क्षेत्र में घूमकर आ गया उसके बाद इंदौर से जाने से पहले करवाई गई जांच रिपोर्ट के आधार पर उसे फोन आया कि उसकी रिपोर्ट पाजिटिव है। ऐसे में यह शोध का विषय है कि यदि वह व्यक्ति पाजिटिव था एयरपोर्ट व दूसरे देशों की जांच रिपोर्ट में उसका कोविड संक्रमण पकड़ में क्यों नहीं आया। वर्तमान में जितने भी कोविड संक्रमित मिल रहे है उनमें अधिकांश की कोई न कोई ट्रेवल हिस्ट्री है। कोई विदेश होकर आया है या देश के अन्य मेट्रों शहरों से घूमकर आया है जिसके बाद वो पाजिटिव हुआ। डा. डोसी के मुताबिक अभी विदेश या दूसरे शहरों से आने वाले जिन लोगों में कोविड के लक्षण दिखाई दें उन्हें तत्काल चिकित्सक से सलाह लेना चाहिए। लोग मास्क पहनें, शारीरिक दूरी का पालन करेंऔर सामाजिक कार्यो में जाने के दौरान काफी सर्तकता रहें। यदि जरुरी न हो तो सामाजिक कार्यक्रमों में जाने से बचें।

डा. रवि डोसी, छाती रोग विशेषज्ञ, अरबिंदो अस्पताल

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local