Coronavirus Indore News : अभिषेक चेंडके। इंदौर (नईदुनिया)। कोरोना के प्रोटोकॉल आम व्यक्ति और 'माननीय' सभी के लिए समान हैं, लेकिन अफसर इनमें भी भेद कर रहे हैं। प्रदेश के जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट, उनकी पत्नी और एक बेटा संक्रमित होने के बाद अस्पताल में हैं। उनके दोनों बंगले सील होना तो दूर, बंगला परिसर में कंटेनमेंट क्षेत्र का सूचना बोर्ड भी नहीं है, जबकि अग्रवाल नगर में ही मंत्री के बंगले से डेढ़ सौ मीटर दूरी पर दो मकानों के बाहर बेरिकेडिंग की गई है।

पॉजिटिव रिपोर्ट आने से पहले मंत्री सिलावट सांवेर विधानसभा में सभाएं लेते रहे। इसके अलावा चुनाव संबंधी गतिविधियां उनके जानकी नगर और रेसीडेंसी कोठी स्थित बंगले पर भी संचालित होती थीं, लेकिन आश्चर्य है कि बंगले के बाहर कोई बेरिकेडिंग नहीं की गई।

मंत्री का बंगला सील नहीं होने को लेकर एक युवक ने स्वास्थ्य विभाग के अफसरों से सवाल पूछे थे तो अफसरों ने उसके खिलाफ सोमवार को प्रकरण दर्ज करवा दिया था। ये थे दोनों बंगले के हाल... बंगले की मरम्मत जारी फोटो मंत्री सिलावट के अग्रवाल नगर के बंगले की मरम्मत चल रही है। मंगलवार को बंगले का मुख्य गेट खुला था और दरवाजे पर ताला भी नहीं लगा था।

बंगले के बाहर बिल्डिंग मटेरियल बिखरा था। छोटे गेट की तरफ 'तुलसी सिलावट, मंत्री, जलसंसाधन विभाग' की प्लेट लगी हुई है। हालांकि बंगले के भीतर किसी तरह की हलचल नहीं थी। रेसीडेंसी के बंगले में खड़े थे लोडिंग रिक्शा फोटो रेसीडेंसी क्षेत्र में भी मंत्री को आवंटित बंगले का गेट खुला हुआ था। परिसर में दो लोडिंग रिक्शा खड़े थे जिसमें तस्वीरें रखी जा रही थी। परिसर में ही छह-सात युवक भी थे। इस बंगले के गेट को भी सील नहीं किया गया था।

जिम्मेदारों के जवाब

रेसीडेंसी कोठी में दो बंगले पास-पास में आवंटित हैं। एक बंगले का उपयोग कार्यालय की तरह हो रहा है। मंत्रीजी दूसरे बंगले में रहते संक्रमित होने से पहले रह रहे थे। वह सील है। अग्रवाल नगर के बंगले में मरम्मत का काम चल रहा है। -बंकिम सिलावट, मंत्री सिलावट के बेटे

मैंने फील्ड स्टाफ को बंगले में कोविड-19 के प्रोटोकाल का पालन कराने के निर्देश दिए थे। मंत्री निवास का हिस्सा खुला हुआ है। पलासिया क्षेत्र में भी कई संक्रमितों के घर बेरिकेडिंग नहीं की गई। जहां घनी बसाहट हो और ज्यादा केस निकल रहे हैं, वहां बेरिकेडिंग पर हम फोकस कर रहे हैं। -अक्षय मरकाम, एसडीएम

जिस इलाके में संक्रमित मिलते हैं, वहां के संबंधित एसडीएम मकान सील करने व बेरिकेड लगाने की सूची देते हैं। उसके हिसाब से ही कार्रवाई की जाती है। -आरके जोशी, कार्यपालन यंत्री, लोक निर्माण विभाग

स्वास्थ्य विभाग का काम सैंपल लेना और मरीजों के स्वास्थ्य की निगरानी रखना है। बेरिकेड और सूचना बोर्ड लगाने का काम स्वास्थ्य विभाग नहीं करता है। -पूर्णिमा गडरिया, प्रभारी सीएमएचओ

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020