इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। आय से अधिक संपत्ति रखने के मामले में पकड़े गए नगर निगम के बेलदार असलम खान पर तुकोगंज थाना पुलिस ने धोखाधड़ी और कूटरचना का केस दर्ज कर लिया है। असलम खान के ठिकानों पर लोकायुक्त पुलिस ने चार साल पूर्व छापामार कार्रवाई की थी। सर्चिंग के दौरान खान के घर से अधिमान्य पत्रकार कार्ड मिला था जो जांच में फर्जी पाया गया।

उपसंचालक (जनसंपर्क) डा.आरआर पटेल ने अगस्त 2018 में तुकोगंज थाना में लिखित शिकायत दर्ज करवाई थी कि बेलदार असलम के घर छापे में अधिमान्य पत्रकार का कार्ड मिला है। विभाग के रिकार्ड में कार्ड पत्रकार कैलाश यादव के नाम पर है। असलम ने क्लोनिंग के माध्यम से फर्जी कार्ड बना लिया था। पुलिस ने असलम को बचाने की कोशिश की और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम में दर्ज प्रकरण में ही जोड़ने के लिए लोकायुक्त को पत्र लिख दिया। डीएसपी (लोकायुक्त) संतोष सिंह भदौरिया ने तुकोगंज टीआइ कमलेश शर्मा को पत्र लिखकर बताया कि यह आइपीसी का मामला है। पुलिस के मुताबिक अधिमान्यता शाखा प्रभारी दिनेश कपूर से बयान लिए और धोखाधड़ी व कूटरचना का केस दर्ज कर लिया।

कुलपति का फोटो देख ढाई लाख रुपये के वाउचर खरीदे

इंदौर। देवी अहिल्या विश्वविद्यालय की कुलपति डा. रेणु जैन का फोटो लगाकर आनलाइन ठगी का मामला सामने आया है। घटना विश्वविद्यालय की कार्यपरिषद सदस्य व महिला प्राध्यापक डा. रेखा गर्दे के साथ हुई है। डा. गर्दे के मुताबिक उन्हें कुलपति के फोटो वाले वाट्सएप नंबर से मैसेज आया, जिसमें वाउचर खरीदने की बात कही गई। पहले अमेजन के 10 हजार वाले 10 वाउचर कुल एक लाख के 10 और दूसरी बार में 10 हजार के 15 वाउचर कुल डेढ़ लाख रुपये के खरीदे। तीसरी बार मैसेज आने पर कुलपति से चर्चा की। उन्होंने ऐसे किसी मैसेज से इन्कार किया। इसके बाद क्राइम ब्रांच में लिखित शिकायत की है।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close