Exhibition in Indore: इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। मप्र उच्च न्यायालय की इंदौर खंडपीठ में पदस्थ न्यायमूर्ति अनिल वर्मा द्वारा देश के विभाजन, भारत की आजादी तक किस तरह देश का बंटवारा हुआ, किस तरह देश स्वतंत्र हुआ से संबंधित बहुमूल्य न्यायालयीन दस्तावेज, विभिन्न देशों इंग्लैंड, आस्ट्रेलिया, अमेरिका, आयरलैंड, पाकिस्तान और भारत के अलग-अलग राज्यों में विभिन्न भाषाओं में प्रकाशित होने वाले समाचार पत्रों के अद्भुत संग्रहण को प्रस्तुत किया गया। यह प्रदर्शनी उच्च न्यायालय परिसर में लगाई गई थी।

उच्च न्यायालय के इतिहास में पहली बार इस तरह की प्रदर्शनी लगाई गई। न्यायमूर्ति वर्मा के बाबा मोतीलाल वर्मा स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे। उन्होंने शहिद चंद्रशेखर आजाद के साथ आजादी के साथ आंदोलन में भाग लिया था। वे डा. राजेंद्र प्रसाद, महात्मा गांधी के साथ जंगल सत्याग्रह, भारत छोड़ो आंदोलन में भी शामिल हुए थे। इसके लिए उन्हें जेल की सजा भी काटनी पड़ी थी।

प्रदर्शनी का उद्घाटन उच्च न्यायालय के प्रशासनिक न्यायमूर्ति विवेक रूसिया ने किया। इस मौके पर न्यायमूर्ति विजय कुमार शुक्ला, न्यायमूर्ति सुबोध अभ्यंकर, न्यायमूर्ति सत्येंद्र सिंह, न्यायमूर्ति प्रणय वर्मा, न्यायमूर्ति राजेंद्र वर्मा, न्यायमूर्ति अमरनाथ केशरवानी उपस्थित थे। उच्च न्यायालय अभिभाषक संघ के अध्यक्ष सूरज शर्मा, उपाध्यक्ष मनोहर सिंह चौहान, अतिरिक्त महाधिवक्ता उमेश गजांकुश, के साथ इस मौके पर बड़ी संख्या में अधिवक्तागण मौजूद थे।

वकीलों ने कहा कि इस तरह की प्रदर्शनी से दशकों पहले के न्यायालयीन दस्तावेज और आजादी के समय प्रकाशित होने वाले देश-विदेश के अखबारों के बारे में जानकारी लगती है। न्यायालयीन दस्तावेजों के अवलोकन से ज्ञान में वृद्धि होती है।

मप्र उच्च न्यायालय की इंदौर खंडपीठ में होगा हुआ ध्वजारोहण

मप्र उच्च न्ययालय की इंदौर खंडपीठ में स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर 15 अगस्त 2022 को सुबह ध्वजारोहण हुआ। इस मौकै पर प्रशासनिक न्यायामूर्ति विवेक रूसिया व अन्य न्यायमूर्तिगण, बड़ी संख्या में अधिवक्तागण उपस्थित थे।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close