इंदौर। चार दिन पहले सात साल की बच्ची को अगवा करने वाले आरोपित को पुलिस ने रविवार को सागर में गिरफ्तार किया था। सोमवार को पुलिस उसे इंदौर ले आई। आरोपित ने पूछताछ में स्वीकारा कि उसने दुष्कर्म करने के लिए बच्ची को अगवा किया था। वीडियो कोच बस में उससे दुष्कर्म की कोशिश भी की थी। आरोपित ने एक युवती से भी कई सालों तक दुष्कर्म करने की बात स्वीकारी है। छानबीन में आरोपित के घर से फर्जी वोटर कार्ड भी मिला है।

एसएसपी रुचि वर्धन मिश्र ने बताया कि 8 नवंबर को बच्ची के पिता ने सदर बाजार थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी कि उनकी सात साल की बेटी नहीं मिल रही। पुलिस ने अपहरण का केस दर्ज कर बच्ची को ढूंढने के लिए एक टीम बनाई। टीम ने मौके पर जाकर सीसीटीवी कैमरे के फुटेज खंगाले। इसमें संतोष उर्फ हरी पटेल (30) निवासी रायसेन ग्राम तुलसी पार खमरिया बच्ची को सुबह 8.20 बजे ले जाता दिखा। जब आसपास के लोगों को संतोष के फुटेज दिखाए तो बताया कि वह पास ही किराए के मकान में रहता है। वह सीहोर के पास गायकवान गांव का रहने वाला है। टीम ने जब कंट्रोल रूम सीहोर में पता किया तो उसके गांव की पुष्टि नहीं हुई। इसके बाद पुलिस ने संतोष के घर की तलाशी ली तो एक फर्जी वोटर कार्ड मिला। इसमें संतोष पिता नन्हे वीर सिंह पटेल निवासी साउथ गाडराखेड़ी लिखा हुआ था।

पांच साल पहले युवती को भी किया था अगवा

पुलिस ने जब आसपास के लोगों से पूछताछ की तो पता चला कि संतोष पांच साल से एक युवती के साथ रह रहा था और उससे दुष्कर्म करता था। संतोष का कुछ दिनों से युवती से इस बात पर झगड़ा चल रहा था कि वह पास के एक लड़के से बात करने लगी थी। बाद में युवती मौका देखकर भाग गई थी। पुलिस को पता चला कि जो लड़की संतोष के साथ रह रही थी वह सागर के पास स्थित रहली की है। टीम ने वहां पहुंचकर युवती को ढूंढ लिया। युवती ने बताया कि संतोष ने उसे पांच साल पहले रोशनपुरा भोपाल से अगवा किया था। तभी से वह दुष्कर्म कर रहा था। आठ दिन पहले वह मौका देखकर भाग कर घर आ गई।

सागर में पकड़ा आरोपित को

एसएसपी ने बताया कि संतोष रविवार को सागर में बच्ची के साथ बस स्टैंड पर घूम रहा है। पुलिस ने उसे पकड़ा और गोपालगंज थाने ले गई। पूछताछ में उसने कबूला कि वह जिस युवती के साथ रहता था वह उसे छोड़कर चली गई थी। इसलिए बच्ची को दुष्कर्म के उद्देश्य से अगवा किया था। उसने सागर जाते समय वीडियो कोच बस में बच्ची से दुष्कर्म का प्रयास भी किया था। पुलिस ने धारा 376 व पाक्सो एक्ट में मामला दर्ज किया है। पुलिस को संदेह है कि आरोपित से पूछताछ में अपहरण के और मामले भी सामने आ सकते हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network