इंदौर। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्रसिंह धोनी के एक प्रशंसक ने रातोंरात लखपति बनने के चक्कर में एक ऑनलाइन गेमिंग साइट का सोर्स कोड, हाइपर लिंक, मेटा डेटा चोरी कर ऑनलाइन सट्टा कंपनी खोल ली। उस गेमिंग साइट के ब्रांड एम्बेसडर धोनी ही हैं। वेबसाइट पर लोड बढ़ने पर साइबर सेल ने मामले की जांच की और वेब डिजाइनर सहित तीन आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया।

एसपी (साइबर) जितेंद्रसिंह के अनुसार, गिरफ्तार आरोपितों के नाम विजय पिता सुरेश गांधी निवासी मनीहार बाखल एमजी रोड देवास, मुदित पिता कौशल कुमार गुप्ता निवासी फॉरेस्ट कॉलोनी मोती बंगला देवास और वरदान पिता महेश गांधी निवासी मनिहार बाखल एमजी रोड देवास हैं।

एसपी ने बताया कि फरियादी अमोल आप्टे उपाध्यक्ष लीगल स्पोर्टा टेक्नोलॉजीज द्वारा दर्ज शिकायत पर आरोपितों के विरुद्ध चोरी और आईटी एक्ट का केस दर्ज किया गया था। आप्टे ने बताया कि आरोपितों ने फैंटेसी स्पोर्ट गेमिंग साइट ड्रीम-11 का सोर्स कोड चोरी कर 'मनी वर्ल्ड 2018 डॉट कॉम' डिजाइन कर ली है। इससे उनकी साइट पर मैलवेयर अटैक होने लगा है। पुलिस ने मामले की जांच कर सोमवार रात तीनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया।

पूछताछ में विजय ने बताया कि उसने बीफार्मा किया है और आयात-निर्यात करने वाले अनाज की जांच के लिए टेस्ट किट बेचने वाली कंपनी में टेस्ट ऑफिसर है। वह ऑनलाइन साइट ड्रीम-11 में क्रिकेट खेलता था। इस वेबसाइट के ब्रांड एम्बेसडर धोनी हैं। इसी दौरान उसे ऑनलाइन सट्टा खेलने का विचार आया और वेब डिजाइनर मुदित से संपर्क किया। उसने कहा कि मुझे ड्रीम-11 की हुबहू साइट बनाना है। मुदित ने कुछ समय पहले ही डेवलपर का काम शुरू किया था। उसने ड्रीम-11 की कॉपी करने के चक्कर में सोर्स कोड, हाइपर लिंक और मेटा डेटा कॉपी कर लिया और विजय के लिए 'मनी वर्ल्ड 2018 वेबसाइट डिजाइन कर दी।

दोनों वेबसाइट का सोर्स कोड एक होने के कारण ड्रीम-11 पर ट्रैफिक बढ़ गया और मैलवेयर अटैक शुरू हो गए। कंपनी के एक्सपर्ट ने जांच की तो पता चला कि सोर्स कोड इंदौर से चोरी हुआ है और उन्होंने साइबर सेल में शिकायत कर दी

व्हील घुमा सट्टा लगाने से जाम होने लगी थी वेबसाइट

एसपी सिंह के अनुसार विजय ने मुदित से जो वेबसाइट बनवाई, उसमें ऑनलाइन सट्टा खिलाया जाता था। खोलने पर व्हील दिखाई देता है। लकी नंबर दांव लगाकर व्हील घुमाया जाता है। इसके लिए उसने पेमेंट गेटवे पेपाल पर करंट खाता भी खुलवा लिया था। पुलिस के अनुसार वेब डिजाइनर मुदित बीसीए की पढ़ाई भी कर रहा है। उसके पिता कर सलाहकार हैं। आरोपित वरदान मुख्य आरोपित विजय का चचेरा भाई है। वह खुद को डिस्क जॉकी बताता है।