DAVV Indore: इंदौर। नईदुनिया प्रतिनिधि। कोरोना की दूसरी लहर से तेजी से संक्रमण फैल रहा है। एेसे में देवी अहिल्या विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को फरवरी-मार्च में नौकरियां मिल चुकी थी, लेकिन अभी कंपनियों ने इन छात्र-छात्राओं की ज्वाइनिंग को आगे बढ़ाया है। जबकि हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन में एमबीए करने वाले विद्यार्थियों की फाइनल ईयर की परीक्षा होने से पहले ही अस्पतालों ने ड्यूटी करने के लिए ज्वाइनिंग दे डाली है। लगभग तीस से ज्यादा छात्र-छात्राएं इन दिनों कोविड अस्पतालों में अपनी सेवाएं दे रहे है। हालांकि कुछ विद्यार्थी एेसे भी है जिनके माता-पिता ने उन्हें संक्रमण के डर से ज्वाइन करने से माना कर दिया है।

विश्वविद्यालय के इंस्टिट्यूट आफ मैनेजमेंट स्टडी (आइएमएस) से संचालित एमबीए हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन में 70 विद्यार्थी पढ़ते है। इनके चौथे सेमेस्टर की परीक्षा पहले अप्रैल में होना थी और ज्वाइनिंग मई-जून के बीच करना थी। मगर संक्रमण की वजह से परीक्षाएं कुछ महीनों के लिए आगे बढ़ गई है। वहीं कोरोना की स्थिति को देखते हुए कई अस्पतालों ने पहले ही विद्यार्थियों को ड्यूटी करने के लिए बुला लिया है। करीब 30 छात्र-छात्राओं ने 10 अप्रैल से अस्पतालों में नौकरी करना शुरू कर दिया है, जिन्हें सूरत, अहमदाबाद, इंदौर, भोपाल, हैदराबाद सहित अन्य शहरों के अस्पतालों में पोस्टिंग मिली है। ज्यादातर छात्र-छात्राओं का तीन से पांच लाख के बीच का पैकेज है। ज्यादातर को बतौर मैनेजमेंट ट्रैनी की पोस्टिंग मिली है।

15 विद्यार्थियों का प्लेसमेंट होना बाकी आफ

एमबीए एचए करने वाले बीस विद्यार्थियों को भी नौकरियां मिल गई है। यहां तक अस्पताल ज्वाइनिंग देने को तैयार है। मगर विद्यार्थियों के माता-पिता अभी कोरोना की बिगड़ी स्थिति को देखते हुए नौकरी करने से माना कर रहे है। कई विद्यार्थियों के अभिभावकों ने प्लेसमेंट अॉफिसर से भी इस बारे में बातचीत की है और कहा कि ज्वाइनिंग डेट आगे बढ़ाई जा सके। इस पर अस्पताल व लैब से चर्चा की है। मगर वे इसके लिए राजी नहीं है। उधर 15 छात्र-छात्राओं का कोरोनाकाल में प्लेसमेंट होना बाकी है।

अस्पताल कर रहे संपर्क

एमबीए एचए कोर्स के प्लेसमेंट आफिसर डा. निशिकांत वाईकर का कहना है कि बीते एक साल में कई अस्पताल खुल चुके है। जहां एमबीए एचए की काफी डिमांड है। इंदौर के कई नए अस्पताल इन दिनों संपर्क विद्यार्थियों को नौकरी के अवसर प्रदान करने में लगे है। यहां तक सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में भी कई पोस्ट खाली है। जिन पर एमबीए एचए के विद्यार्थियों को ज्वाइनिंग दी जा रही है। वे बताते है कि जिनकी ज्वाइनिंग आ चुकी है। उनके माता-पिता अभी ड्यूटी करने नहीं भेज रहे है। कई विद्यार्थियों के माता-पिता ने संपर्क कर ज्वाइन करने से माना कर दिया है।

चार अस्पतालों में मिली नौकरी

आइएमएस के अलावा अरिहंत कॉलेज से भी एमबीए एचए संचालित होता है। यहां के 35 छात्र-छात्राओं को शहर के चार अस्पतालों में नौकरी मिल चुकी है। प्रबंधन ने इन्हें फाइनल सेमेस्टर की परीक्षा के लिए छुट्टी देने का आश्वासन दिया है। कॉलेज की सीईओ कविता कासीलवाल का कहना है कि तीन साल पहले ही एमबीए एचए शुरू हुआ है। सत्र 2019-21 बैच के 90 फीसद विद्यार्थियों को शहर के प्रमुख चार अस्पताल में ज्वाइनिंग मिली है। ये सारे अस्पताल रेड जोन श्रेणी में आते है। जहां इन दिनों कोविड मरीजों का इलाज चल रहा है।

ज्वाइनिंग आना बाकी

आइएमएस से संचालित एमबीए मार्केटिंग, फाइनेंस, आपरेशनल मैनेजमेंट, एचआर सहित अन्य स्ट्रीम के 300 से ज्यादा विद्यार्थी है। लगभग 270 विद्यार्थियों को मुंबई, बेंगलुरू, हैदराबाद, पूने, दिल्ली, नोएडा, गुडगांव सहित अन्य शहरों की कंपनियों से नौकरियों के अवसर मिल चुके है। कंपनियों ने विद्यार्थियों का सालाना पैकेज भी निर्धारित कर दिया है। लगभग दस लाख का पैकेज कई विद्यार्थियों के पास है। प्लेसमेंट आफिसर अवनीश व्यास का कहना है कि संक्रमण की वजह से कंपनियों ने 120 विद्यार्थियों को ज्वाइनिंग नहीं दी है। वैसे कंपनियां फाइनल सेमेस्टर की परीक्षा के बाद पोस्टिंग देंगे। उधर 15 फीसद छात्र-छात्राओं की ज्वाइनिंग आ चुकी है। जिन्होंने ड्यूटी शुरू कर दी है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags