इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि DAVV News Indore। देवी अहिल्या विश्वविद्यालय में रिजल्ट तैयार करने के लिए इस्तेमाल होने वाला साफ्टवेयर पुराना हो चुका है। इससे रिजल्ट को लेकर विश्वविद्यालय को काफी मशक्कत करनी पड़ती है। कार्यपरिषद से मंजूरी मिलने के बाद अब जल्द ही नया साफ्टवेयर खरीदा जाएगा। अगस्त में टेंडर बुलाए जाएंगे। बाद में आइटी कंपनी को महीनेभर में साफ्टवेयर बनाकर देना होगा। अधिकारियों के मुताबिक, मौजूदा साफ्टवेयर लगभग तीन से चार साल पुराना है। नए कोर्स और परीक्षाओं से जुड़ी योजना को देखते हुए नया साफ्टवेयर जरूरी हो चुका है।

लाकडाउन खुलने के बाद विश्वविद्यालय के साफ्टवेयर में तकनीकी खराबी आ गई। इस कारण कई तैयार रिजल्ट का डाटा करप्ट हो गया। बाद में विद्यार्थियों के नंबर विश्वविद्यालय प्रशासन को दोबारा अपलोड करने पड़े। इस बीच विशेषज्ञों ने साफ्टवेयर को ठीक कर दिया, लेकिन उन्होंने इसे आउटडेट होना बताया। फिर विश्वविद्यालय में नया साफ्टवेयर खरीदने की कवायद शुरू हुई। जून में हुई कार्यपरिषद की बैठक में सदस्यों ने नया साफ्टवेयर खरीदने की मंजूरी दे दी।

इन दिनों विश्वविद्यालय प्रशासन अपने कोर्स और उनकी स्कीम को लेकर साफ्टवेयर में बदलाव करवाने में जुटे है। 10 अगस्त तक टेंडर बुलवाए जाएंगे। इसके बाद आइटी कंपनियों के साथ मिलकर विश्वविद्यालय नया साफ्टवेयर बनाएगा। सूत्रों के मुताबिक साफ्टवेयर को लेकर विश्वविद्यालय प्रशासन करीब 25 लाख रुपये खर्च कर सकता है। परीक्षा नियंत्रक डा. अशेष तिवारी ने बताया कि टेंडर बुलाने के बाद महीनेभर में साफ्टवेयर खरीदा जाएगा। विश्वविद्यालय के आइटी विशेषज्ञ की टीम की निगरानी में साफ्टवेयर टेस्ट किया जाएगा।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local