Gym Tips इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। बेहतर सेहत और शरीर बनाने की चाह युवाओं के साथ उम्रदराज लोगों को भी जिम की ओर खींच रही है। मगर सही जानकारी के अभाव में सुधार के बजाय जान जोखिम में आ जाती है। हास्य अभिनेता राजू श्रीवास्तव को जिम में ही हृदयाघात के बाद चर्चा बढ़ गई है। फिटनेस ट्रेनरों के अनुसार व्यायाम के लिए उचित अनुशासन के साथ व्यक्ति को अपनी सीमा पता होना जरूरी है।

गत दिनों ख्यात हास्य कलाकार राजू श्रीवास्तव को जिम में दिल का दौरा पड़ा। ऐसी घटनाएं पहले भी कई लोगों के साथ हो चुकी है। कुछ की जान भी गई है। फिटनेस ट्रेनरों के अनुसार जिम में बहुत सी मशीनें होती हैं। सिर्फ लोहा उठाने से शरीर नहीं बनता, बल्कि यह पता होना चाहिए कि शरीर के किस अंग के लिए क्या व्यायाम करना है। कई बार लोग शार्टकट के चक्कर में दवाओं का इस्तेमाल करते हैं। इससे भी शरीर को खासकर नुकसान पहुंचता है।

इंदौर जिम एसोसिएशन के महासचिव मनीष आर्य के अनुसार व्यक्ति को अपनी क्षमताओं का ध्यान रखना चाहिए। ट्रेनर की देखरेख में व्यायाम करना बेहतर होता है, क्योंकि वह शरीर की संरचना, आयु और मेडिकल हिस्ट्री को ध्यान में रखते हुए व्यायाम करवाता है। खानपान की भूमिका भी महत्वपूर्ण होती है। यदि किसी की हृदयगति बहुत ज्यादा बढ़ती है तो ट्रेनर 'टाक-टेस्ट मेथड' से पता लगा लेता है। व्यक्ति को यह भी आकलन करना चाहिए कि वह जो व्यायाम कर रहा है, उससे शरीर पर क्या प्रभाव पड़ रहा है।

अव्यवस्थित दिनचर्या से पड़ता है गलत प्रभाव

महिला ट्रेनर मीनल चौधरी बताती हैं कि जिम में व्यायाम करते हुए अनुशासन जरूरी है। इसमें खानपान और आराम का भी महत्व है। जल्दी शरीर बनाने और सुंदर दिखने की चाहत में लोग स्टेरायड के जाल में उलझ जाते हैं। उचित मार्गदर्शन के साथ व्यायाम करें तो कभी गलत प्रभाव नहीं पड़ेगा। आजकल युवाओं की दिनचर्या और खानपान अव्यवस्थित हो गया है। इससे शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ता है। क्षमता कम होती है। जरा सा दबाव पड़ने पर दुर्घटना होती है। भा

रतीय बाडी बिल्डिंग महासंघ के कोषाध्यक्ष अतीन तिवारी ने कहा कि अभिनेताओं की दिनचर्या अव्यवस्थित है। व्यायाम के साथ उचित आहार और पर्याप्त नींद भी जरूरी है। स्टेरायड से भी बचना चाहिए। संतुलित भोजन थाली में सभी पोषक तत्व होते हैं।

इन बातों का रखें ध्यान -

- उत्सुकता में जरूरत से ज्यादा व्यायाम न करें। धीरे-धीरे व्यायाम को बढ़ाएं।

- शरीर को मेहनत के बाद ऊर्जा की जरूरत होती है, इसलिए उचित खानपान और पूरी नींद लें।

- शार्टकट के चक्कर में न उलझें। शरीर साधना में बहुत अनुशासन लगता है। स्टेराइड से बचें।

- मेडिकल हिस्ट्री का ध्यान रखें। यदि कोई समस्या है तो ट्रेनर या डाक्टर से सलाह लें।

- उचित मार्गदर्शन में ही व्यायाम करें।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close