इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि । शहर के सरकारी अस्पताल, प्राथमिक व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर चिकित्सक समय पर नहीं पहुंच रहे हैं। ऐसे में सुबह के समय अस्पताल पहुंचने वाले लोगों को परेशान होना पड़ता है। मरीज चिकित्सकों का इंतजार ही करते रहते है।

गुरुवार सुबह 9.30 हुकुमचंद पाली क्लिनिक में उपचार के लिए पहुचे मरीजों को डाक्टर ही नहीं मिले। राजेन्द्र नगर के रहवासी श्रीकांत तारे के मुताबिक मैं बेटे के उपचार के अस्पताल पहुंचा तो देखा कि वहां पर डाक्टर ही समय पर नहीं पहुंचे थे। उस समय बुजुर्ग दंपत्ति भी दिखाई दिए जो आटाे रिक्शा से काफी दूर से यहां पर उपचार के लिए आए थे। वो करीब आधे से पौन घंटे वहां रुके लेकिन चिकित्सकाें के न आने के कारण उन्हें बिना उपचार लिए ही वापस लौटना पड़ा। मैंने सीएमएचओ डा. बीएस सैत्या को इसकी शिकायत की तो उन्होंने वहां के अधिकारियों व चिकित्सकाें को फटकार लगाई। उसके बाद ही वे अस्पताल पहुंची।

इसी तरह राजेन्द्र नगर के शासकीय स्वास्थ्य केंद्र पर भी स्टाफ समय पर नहीं पहुंचता है। इस संबंध में मैं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को कई बार शिकायत कर चुका है लेकिन उसके बाद यहां के स्टाफ व चिकित्सकों के समय पर पहुंचने की आदत नहीं बदल रही है। ऐसे में यहां पर उपचार के लिए पहुंच रहे मरीज परेशान हो रहे है। गौरतलब है कि पिछले दिनों सांवेर के अस्पताल में चिकित्सकों के समय पर नहीं पहुंचने के कारण जल संसाधन मंत्री तुलसी मिलावट ने स्वास्थ्य विभाग के अफसरों को तलब किया था और यहां पर समय पर न पहुंचने वाले तीन चिकित्सकों को हटाया गया था।

राजेन्द्र नगर स्वास्थ्य केंद्र पर 10.30 बजे तक कोई भी डाक्टर नहीं पहुंचा केंद्र पर

राजेन्द्र नगर क्षेत्र में रहने वाले श्रीकांत तारे शुक्रवार सुबह राजेंद्र नगर के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर पहुचे लेकिन वहां पर स्टाफ नदारद था। उन्होंने चिकित्सकों के लेट पहुंचने की लापरवाही को अपने मोबाइल कैमरे में कैद किया। इस केंद्र के खुलने का समय सुबह 9:00 बजे है लेकिन गुरुवार को सुबह के 10.15 बजे तक यहां कोई भी स्टाफ मौजूद नहीं था। यहां तीन डॉक्टर, नर्स तथा कर्मचारियों की नियुक्ति है, लेकिन समय पर कोई भी नहीं पहुचा। फील्ड स्टाफ में से बनर्जी नामक महिला तथा अनिता यहां मौजूद थी। कई मरीज यहां पर डाक्टर के आने का इंतजार कर रहे थे। कुछ केंद्र पर आकर निराश होकर लौट गए। इस केंद्र पर लैब सहायक सपना 10.15 पर पहुंची। सुबह 10.30 बजे एक वरिष्ठ डाक्टर पहुंचे और बोले कि मेरे घर मेहमान आए थे। गुरुवार 10.30 बजे इस केंद्र में केवल एक डाक्टर तथा दो कर्मचारी ही मौजूद थे।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local