इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। मध्यप्रदेश के इतिहास में संभवत: पहली बार किसी खेल का विश्व कप इंदौर में होने जा रहा है। वर्ष 2020 में होने वाली ड्रैगन बोट विश्व चैंपियनशिप की मेजबानी इंदौर को सौंपी गई है। इस आयोजन में 40 देशों के 1000 से ज्यादा खिलाड़ी हिस्सा लेंगे। इसके लिए बिलावली तालाब को विशेष रूप से तैयार किया जाएगा। महापौर मालिनी गौड़ की उपस्थिति में इस खेल की वैश्विक संस्था के पदाधिकारियों ने इंदौर को प्रतिष्ठित टूर्नामेंट की मेजबानी सौंपने की घोषणा की।

पिछले दो दिनों से 11 देशों के पदाधिकारी और अंतरराष्ट्रीय संघ के अधिकारियों ने शहर की व्यवस्थाओं का मुआयना करने के बाद मेजबानी सौंपने का संयुक्त रूप से फैसला किया। इस दौरान महापौर ने शहर में यादगार आयोजन करने का वादा किया। उन्होंने कहा कि हम बिलावली तालाब का नवीनीकरण कर रहे हैं, जो इंदौर के आम लोगों के लिए सौगात होगी। हम शहर को वॉटर स्पोर्ट्स के बड़े सेंटर के रूप में विकसित करना चाहते हैं।

खेल-खेल में पानी से निकालेंगे पैसा : भारतीय कयाकिंग-केनोइंग संघ से जुड़े प्रशांत कुशवाह और योगेंद्रसिंह राठौर ने बताया कि स्पर्धा के लिए 40 देशों के 1000 से ज्यादा खिलाड़ी इंदौर आएंगे। इस दौरान वे यहां घूमेंगे, जिससे पर्यटन को फायदा होगा। विभिन्न वस्तुएं खरीदेंगे, जिससे स्थानीय दुकानदारों को मुनाफा होगा। अनुमान के मुताबिक यदि एक विदेशी खिलाड़ी 100 डॉलर भी खर्च करता है तो 1000 से ज्यादा खिलाड़ियों द्वारा इंदौर में 75 लाख से ज्यादा खर्च किए जाएंगे। इससे शहर के छोटे व्यापारियों को ज्यादा फायदा होगा।

खेल पर्यटन को बढ़ावा : बिलावली तालाब को वॉटर स्पोर्ट्स का अंतरराष्ट्रीय स्तर का सेंटर बनाने की योजना है। रूस, अमेरिका, यूक्रेन आदि कई देशों में बर्फबारी होने से यहां के खिलाड़ी इंदौर में अभ्यास कर सकते हैं। अन्य देशों की तुलना में इनके लिए इंदौर सस्ता विकल्प होगा। देश के अन्य शहरों में इसे लेकर इतनी जागरुकता फिलहाल नहीं है। कार्यक्रम के दौरान भारतीय संगठन के बलबीरसिंह कुशवाह, मप्र संगठन प्रमुख एकलव्य सिंह गौड़, लोकेंद्रसिंह राठौर, वीरेंद्र शेंडगे, सागर तोंडे आदि मौजूद थे।

नाविक ड्रम की धुन पर दौड़ाएंगे नाव

ड्रैगन बोट स्पर्धा में 20 और 10 चालकों की नाव इस्तेमाल होती है, जिसमें एक व्यक्ति ड्रम बजाकर चालकों में जोश भरता है। 200 मीटर, 500 मीटर और 2000 मीटर की दौड़ होती है। इंदौर में जूनियर, सीनियर और मास्टर्स वर्ग की स्पर्धा होगी।

इंदौर पिछले दो साल से देश का सबसे स्वच्छ शहर है। हमारी यह पहचान हमें यह प्रतिष्ठित आयोजन की मेजबानी दिलाने में अहम साबित हुई। हमारा प्रयास होगा कि दुनियाभर से यहां आने वाले खिलाड़ी खूबसूरत यादें लेकर लौटें। - मालिनी गौड़, महापौर, इंदौर

इंदौर में तालाब और अन्य व्यवस्थाएं अच्छी हैं। यहां की सफाई व्यवस्था ने हमें प्रभावित किया। हमने कुछ सुझाव भी दिए हैं। हमें उम्मीद है यहां यादगार आयोजन होगा। - डॉ. लुक, एशियाई कयाकिंग-केनोइंग महासंघ के सचिव

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags