इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि) Hello Naidunia Indore। सहकारी गृह निर्माण संस्थाओं की जमीन पर कब्जा जमाए भूमाफिया के खिलाफ जिला प्रशासन कार्रवाई कर रहा है। साथ ही पात्र भूखंडधारियों को उनका हक दिलाने के प्रयास हो रहे हैं। इस मुद्दे पर हेलो नईदुनिया कार्यक्रम में भी ऐसे कई पीड़ितों का दर्द छलका। किसी ने 35 साल पहले भूखंड खरीदा, लेकिन आज तक वह उसका नहीं हो सका, कहीं भूमाफिया के शिकंजे में भूखंड है तो कहीं बिल्डर और कालोनाइजर धोखा देकर भाग गए हैं। ऐसे में अपने ही हक के भूखंड पर लोगों के घर का सपना अधर में है। जिला प्रशासन की ओर से अपर कलेक्टर अभय बेड़ेकर ने ऐसे लोगों के दर्द को गंभीरता से सुना, जवाब दिए और यथोचित निराकरण का भरोसा दिलाया है।

सवाल: देवी अहिल्या श्रमिक कामगार गृह निर्माण सहकारी संस्था की श्री महालक्ष्मी नगर कालोनी में 35 साल पहले भूखंड लिया था। रजिस्ट्री भी हो चुकी है, लेकिन अब तक कब्जा नहीं मिला है। मैंने ट्यूशन पढ़ाकर पैसे जोड़-जोड़कर यह प्लाट लिया था। भूमाफिया ने कब्जा कर रखा है। आखिर हमारा प्लाट कब हमको मिलेगा? यहां कई लोग परेशान हैं। प्रशासन को प्राथमिकता के आधार पर यहां कार्रवाई करनी चाहिए। - सीमा जौहरी, पद्मावती कालोनी

जवाब: देवी अहिल्या श्रमिक कामगार सोसायटी की श्री महालक्ष्मी नगर कालोनी की भी जांच चल रही है। जैसे ही जांच पूरी होगी, उसके बाद पात्र और वरीयता क्रम में आगे आने वाले सदस्यों को उनके प्लाट आवंटित कराए जाएंगे।

सवाल: मजदूर पंचायत गृह निर्माण सहकारी संस्था की पुष्प विहार कालोनी में 62 नंबर प्लाट हमने लिया है। इसकी रजिस्ट्री भी है, लेकिन अब तक प्लाट नहीं मिल पाया है। अपने ही प्लाट के लिए वर्षों से परेशान हैं। कलेक्टर और एसपी को पहले भी कई बार शिकायत कर चुके हैं। - अंजलि चंद्रवंशी, प्रगति नगर

जवाब: पुष्प विहार की अधिकांश जांच हो चुकी है। जिनके पास वैध रजिस्ट्री होगी और पात्र सदस्य होंगे, उनको चार-पांच दिन में प्लाट का कब्जा देना शुरू कर दिया जाएगा।

सवाल: जागृति गृह निर्माण सहकारी संस्था की राजगृही कालोनी में 23 साल पहले प्लाट लिया था। अब तक प्लाट नहीं मिल पाया है। भटक रहे हैं। हमारा प्लाट कब मिल पाएगा। - अनिल पाटनी, पारसी मोहल्ला

जवाब: जागृति हाउसिंग सोसायटी की काफी जांच हो चुकी है। इसकी वरीयता सूची बनेगी, उस हिसाब से पात्र सदस्यों को प्लाट आवंटित किए जाएंगे।

सवाल: मेरे अलावा कई लोगों ने प्रिंसेस इस्टेट में प्लाट खरीदा है। यहां कुछ ही लोगों की रजिस्ट्री हुई, बाकी की नहीं हुई है। बाद में इस कालोनी को अवैध घोषित कर दिया गया। यह कालोनी अरुण डागरिया और महेंद्र जैन की है। सहारा सिटी में भी हमने फ्लैट खरीदा है, लेकिन अब तक यहां विकास और निर्माण पूरा नहीं हो पाया है। - कपिल कासट, अग्रवाल नगर

जवाब: प्रिसेंस इस्टेट में क्या दिक्कत है और इसे अवैध क्यों घोषित किया गया, इसका पता करेंगे। सहारा सिटी को लेकर तो बड़े स्तर पर जांच चल रही है। फैसला आने पर लोगों के पैसे भी लौटाए जा सकते हैं।

सवाल: कर्मचारी गृह निर्माण सहकारी संस्था में 1994 से पैसे जमा हैं। अब तक प्लाट नहीं मिला है। उपभोक्ता फोरम से केस भी जीत चुका हूं। संस्था के कर्ताधर्ता बताते हैं कि जमीन आइडीए की योजना में चली गई है। आखिर प्लाट कब मिलेगा? - पीयूष अग्रवाल, दलिया पट्टी मल्हारगंज

जवाब: आप अपना आवेदन कलेक्टर कार्यालय में दे दीजिए। जब तक जमीन आइडीए की योजना से मुक्त नहीं होगी, प्लाट नहीं मिल पाएगा।

सवाल: पिगडंबर स्थित चयन फार्म हाउस में 6 प्लाट लिए थे। रजिस्ट्री तो हो चुकी है, लेकिन नामांतरण अभी तक नहीं हुआ है। भू-स्वामी की मृत्यु हो चुकी है। महू तहसील कार्यालय गए थे, नामांतरण के लिए आवेदन भी दिया था, लेकिन काम नहीं हुआ। - किरण व्यास, प्रकाश नगर

जवाब: रजिस्ट्री की कापी लगाकर एक बार फिर तहसील कार्यालय में नामांतरण के लिए आवेदन लगाइए। इसके लिए जनसुनवाई में भी आवेदन दे दीजिए।

सवाल: आदर्श भूतपूर्व सैनिक गृह निर्माण सहकारी संस्था की धनंजय नगर कालोनी में प्लाट नहीं मिला है। प्लाट की जगह किसी ने बाउंड्रीवाल बनाकर कब्जा कर लिया है। चार साल पहले कलेक्टर कार्यालय में भी इसकी शिकायत की थी, लेकिन अब तक कोई निराकरण नहीं हुआ। - अरुण शुक्ला, मेघदूत नगर

जवाब: संस्था और कालोनी से संबंधित सभी दस्तावेज लेकर कलेक्टर आइए। दस्तावेज देखकर ही बताया जा सकता है कि क्या समस्या है।

सवाल: देवी अहिल्या संस्था की श्री महालक्ष्मी नगर कालोनी में 1985 में प्लाट लिया था। इसकी रजिस्ट्री 1998 में करा ली गई थी, लेकिन यह आइडीए की योजना में उलझा हुआ है। आखिर योजना से यह जमीन कब मुक्त होगी और हमें अपना प्लाट मिलेगा? -हेमंत शिंदे, सुदामा नगर

जवाब: श्री महालक्ष्मी नगर की जांच चल रही है। वरीयता क्रम में नाम होगा तो प्लाट का कब्जा मिलेगा। आइडीए की योजना से जमीन मुक्त कराने के लिए भूखंडधारियों को भी प्रयास करना होगा।

सवाल: जागृति गृह निर्माण सहकारी संस्था में 2002 में भूखंड लिया था। आज तक इसका आवंटन और कब्जा नहीं हुआ है। मामले की शिकायत पहले भी अधिकारियों को की थी, लेकिन अब तक कुछ नहीं हुआ। - श्यामा प्रजापति, महालक्ष्मी नगर

जवाब: जांच के दायरे में जागृति संस्था को भी लिया गया है। इसका निराकरण होने पर स्थिति स्पष्ट होगी। आप अपनी शिकायत कर दीजिए। इसे भी शामिल कर लिया जाएगा।

सवाल: श्री महालक्ष्मी नगर में 1988 में भूखंड लिया था। इसकी रजिस्ट्री भी हो चुकी है लेकिन अब तक हमें प्लाट नहीं मिला। कई साल गुजर गए, आखिर और कितना इंतजार करना पड़ेगा। - वर्षा पानसे, वासुदेव नगर

जवाब: जांच की जा रही है। श्री महालक्ष्मी नगर की स्थिति 15-20 दिन में स्पष्ट होगी। यदि आपकी रजिस्ट्री वैध होगी और पात्र सदस्य होंगे तो आपको जरूर प्लाट मिलेगा।

सवाल: कष्ट निवारक गृह निर्माण सहकारी संस्था की राजेंद्र नगर स्थित कालोनी में कई साल पहले प्लाट लिया था। पर यह जमीन आइडीए की योजना क्रमांक-97 में आ गई। छूट के प्रविधान में आने के बाद भी अब तक प्लाट नहीं मिला है। कोर्ट में भी दावा लगा चुके हैं, कलेक्टर को भी शिकायत की थी। - रमेश मूणत, मल्हारगंज

जवाब: इस संस्था का मामला मेरे सामने पहली बार आया है। मैं दिखवाता हूं, क्या परेशानी है।

सवाल: मजदूर पंचायत संस्था की पुष्प विहार कालोनी में 1995 में प्लाट लिया था। प्लाट संस्था से ही लिया था, लेकिन अब तक नहीं मिल पाया है। - यशोधरा वैद्य, इंदौर

जवाब: पुष्प विहार में नक्शे के अनुसार लेआउट डाला जा रहा है। पात्र सदस्यों को कब्जा भी दिया जाएगा।

सवाल: संतोषी माता गृह निर्माण सहकारी संस्था से 1998 में प्लाट खरीदा था। संस्था ने कृषि भूमि के भूखंड ही सदस्यों को दे दिए। न तो जमीन का डायवर्शन कराया, न ही टाउन एंड कंट्री प्लानिंग से नक्शा पास कराया। कालोनी में विकास कार्य भी नहीं कराए हैं। यहां 410 परिवार परेशान हैं। -रंगेश तिवारी, विद्या नगर

जवाब: संतोषी माता संस्था के मामले में पहले क्या कार्रवाई हुई और अब आगे क्या कर सकते हैं, यह दिखवाया जाएगा।

सवाल: अरबिंदो अस्पताल के सामने गोल्ड सिटी में तीन प्लाट लिए थे। इसमें चंपू अजमेरा, हैप्पी धवन और चिराग शाह शामिल हैं। पैसा दे चुका हूं, इसकी रसीदें भी हैं लेकिन रजिस्ट्री किसी और के नाम कर दी है। इन लोगों को भले ही जेल दिया गया हो, लेकिन इससे हमें क्या मिला। हमको कब न्याय मिल पाएगा? - ऋषि मिश्रा, विजय नगर

जवाब: व्यवस्था किसी एक व्यक्ति के हाथ में नहीं होती। इस मामले में कोर्ट का जो भी निर्णय होगा, वैसी कार्रवाई की जाएगी।

सवाल: इंदौर टैक्सटाइल एम्प्लाइज गृह निर्माण सहकारी संस्था की क्लर्क कालोनी एक्सटेंशन में 11 साल पहले प्लाट लिया था। संस्था की ओर से अब तक इसकी एनओसी नहीं मिली और न ही कब्जा-पत्र मिला है। - कमलेश नाहर, सुखलिया

जवाब: मामले की शिकायत कलेक्टर कार्यालय में कीजिए। मैं संबंधित पदाधिकारी को नोटिस जारी करूंगा, कब्जा-पत्र क्यों नहीं दे रहे हैं।

सवाल: जय हिंद हाउसिंग सोसायटी में 1988 में भूखंड लिया था लेकिन अब तक नहीं मिला। कई बार सहकारिता विभाग के संबंधित अधिकारियों को शिकायत की लेकिन संतोषजनक जवाब नहीं मिला। - भागवतसिंह राजपूत, ड्रीम सिटी

जवाब: एक बार कलेक्टर कार्यालय में शिकायत कीजिए। इस मामले को दिखवाया जाएगा।

सवाल: वात्सल्य बिल्डर्स एंड डेवलपर्स से शिव रेजीडेंसी में 2009 में प्लाट लिया। पूरा पैसा दे दिया, रजिस्ट्री करवाकर देना थी, लेकिन कंपनी के कर्ताधर्ता गायब हो गए हैं। पैसा वापस करने के लिए चेक दिया था, वह भी बाउंस हो गया। कोई फोन भी नहीं उठाता है। रेरा में भी केस चल रहा है। प्रशासन इसमें क्या मदद करेगा? - भूपेंद्र श्रृंगी, मुंबई

जवाब: रेरा की तरफ से पैसे की वसूली का आदेश आएगा तो उसका पालन किया जाएगा। बिल्डर से वसूली की जाएगी।

सवाल: कर्मचारीगण गृह निर्माण सहकारी संस्था में 1994 में प्लाट लिया, लेकिन आज तक नहीं मिला। अब तक प्लाट की रजिस्ट्री भी नहीं हुई है। - महेश गोयल, छावनी

जवाब: दस्तावेजों के साथ अपर कलेक्टर कक्ष क्रमांक-103 में शिकायत कीजिए।

सवाल: वात्सल्य बिल्डर से खंडवा रोड पर प्रेस्टीज-1 में दो साल पहले प्लाट लिया था। इसके लिए अनुबंध करके भुगतान किया था, लेकिन न प्लाट मिला, न ही इसकी रजिस्ट्री हुई। विकास कार्य भी आधे-अधूरे किए हैं। - धनंजय होलकर, प्रिकांको कालोनी

जवाब: कलेक्टर कार्यालय में इसका आवेदन कीजिए। उचित कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Sameer Deshpande

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags