रालामंडल में 10 साल से छोटे बच्चे भी घूम सकेंगे, वन विभाग ने गाइडलाइन में किया संशोधन

इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। संक्रमण को देखते हुए छह महीने से बंद रालामंडल अभयारण्य गुरुवार को पर्यटकों के लिए खुल गया है। पहले दिन सिर्फ गिने-चुने पर्यटक वहां घूमने-फिरने के लिए पहुंचे हैं। मगर ये गाड़ी से शिकारगाह तक नहीं जा सकते है, क्योंकि बीते दिनों भारी बारिश के चलते 25 फीट सड़क उखड़ गई है। अब वन विभाग इसकी मरम्मत करने की तैयारी कर रहा है। ठेकेदार ने महीनेभर में काम पूरा होना बताया है। फिलहाल पर्यटक वहां पर पैदल जरूर जा सकते हैं।

रालामंडल अभयारण्य खोलने से पहले वन विभाग ने कोविड-19 की गाइडलाइन में संशोधन कर दिया है। अब 10 साल से छोटे बच्चे और 65 साल से बड़े-बुजुर्ग भी अभयारण्य की सैर कर सकते है। एसडीओ एके पारिख ने बताया कि संशोधित गाइडलाइन के बारे में 30 सितंबर को विभाग की तरफ से पत्र मिला है। पर्यटक आरक्षित वन के अलावा डियर सफारी, जीवाश्यम केंद्र तक घूम-फिर सकते है। उन्होंने बताया कि पर्यटकों के लिए विभाग को नई गाड़ी खरीदना है। फिर वाहन से पर्यटकों को शिकारगाह तक की सैर कराई जाएगी। इस बीच सड़क की मरम्मत का काम भी पूरा हो जाएगा।

वन्यप्राणी सप्ताह शुरू

एक अक्टूबर से वन्यप्राणी सप्ताह शुरू हुआ है। गुरुवार को वन संरक्षक किरण बिसेन ने वनकर्मियों को शपथ दिलवाकर सप्ताह की शुरुआत की है। रालामंडल अभयारण्य में वन संरक्षक, एसडीओ और रेंजर ने वनकर्मियों की बैठक ली। अधिकारियों के मुताबिक कोरोना की वजह से इस बार स्कूली बच्चों को अभयारण्य की सैर नहीं करवाई जा रही है। ऑनलाइन निबंध और कविता की प्रतियोगिता रखी है। रेंजर पुष्पलता मौर्य ने बताया कि वन्यप्राणी सप्ताह के लिए कई स्कूलों से संपर्क किया है। वहां के बच्चों ने प्रतियोगिता में भागीदारी की है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस